ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCR गुरुग्रामजमीन के नाम पर ठगी करने पर गिरोह के तीन सदस्य गिरफ्तार

जमीन के नाम पर ठगी करने पर गिरोह के तीन सदस्य गिरफ्तार

गुरुग्राम,वरिष्ठ संवाददाता। जमीन बेचने के नाम पर 66 लाख रुपए की ठगी करने के मामले में आर्थिक अपराध शाखा कर टीम गिरोह के तीन आरोपियों को गिरफ्तार...

जमीन के नाम पर ठगी करने पर गिरोह के तीन सदस्य गिरफ्तार
हिन्दुस्तान टीम,गुड़गांवTue, 14 May 2024 11:00 PM
ऐप पर पढ़ें

गुरुग्राम। जमीन बेचने के नाम पर 66 लाख रुपए की ठगी करने के मामले में आर्थिक अपराध शाखा कर टीम गिरोह के तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने आरोपियों से 5 लाख रुपए की नगदी भी बरामद की।
पालम विहार थाना पुलिस को दी शिकायत में एक व्यक्ति ने कहा कि मई 2023 में कुलदीप धामा नामक व्यक्ति ने उसे यूपी के गौतमबुध नगर के कवींद्र भाटी की 27 बीघा जमीन को 48 लाख रुपए प्रति बीघा के हिसाब से दिलाने की बात कही। इसके लिए नरेश शर्मा नामक डीलर के साथ मिलकर कुलदीप धामा ने उस जमीन का 50 प्रतिशत हिस्सा लेना दिखाया गया। वहीं यह भी बताया गया उनके पास 58 लाख रुपए प्रति बीघा का खरीददार भी तैयार है। जिसके लिए उन्होंने दो व्यक्तियों से उसे मिलवाया। जिसमें टोकन मनी के रुप में 20 प्रतिशत देने की बात भी कही। इस प्रकार से आरोपियों ने उसे विश्वास में लेकर उससे 66 लाख रुपए टोकन मनी लेकर जमीन की रजिस्ट्री नहीं कराई तथा इसके फोन उठाने भी बंद कर दिए। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया।

आर्थिक अपराध शाखा दो ने एक आरोपी को चंडीगढ़ से काबू कर लिया। जिसकी पहचान गुडग़ांव के सेक्टर-9 निवासी कपिल धामा उर्फ कुलदीप धामा के रुप में हुई। जो फिलहाल वसुंधरा सोसाइटी सेक्टर-5, गाजियाबाद उत्तर-प्रदेश में रह रहा था। इसके बाद पुलिस ने दो अन्य आरोपियों को नैनीताल से काबू कर लिया। जिनकी पहचान यूपी के गौतमबुध नगर कविंद्र भाटी व दिल्ली के दिलशाद कॉलोनी के नरेंद्र कुमार उर्फ नरेश शर्मा के रूप में हुई। दोनों आरोपियों को अदालत में पेश कर चार दिन के पुलिस हिरासत रिमांड पर लिया गया।

जमीन के एवज में कई लोगों से की ठगी

आरोपियों ने पुलिस को बताया कि वे इसी जमीन को दिखाकर बहुत से व्यक्तियों से एग्रीमेंट करके पैसे ले लेते थे। ग्राहक को जमीन का सस्ता रेट बताकर तथा इन्हीं के गिरोह के अन्य साथी जमीन को आगे अधिक रेट में खरीदने का विश्वास दिलाकर ग्राहक से टोकन मनी ले लेते थे। ग्राहक से की गई डील में प्रयोग किए गए फोन व सिमकार्ड को ये तोड़ देते थे तथा इसके लिए फर्जी सिमकार्ड का प्रयोग करते थे। रविंद्र भाटी जमीन का मालिक बनता था व गैंग के अन्य सदस्य नाम बदलकर ग्राहक की तलाश करते थे। फर्जी नाम से डीलर व आगे खरीददार बनकर ग्राहकों के साथ धोखाधड़ी की वारदात को अंजाम देते थे। आरोपी कविंद्र भाटी पर धोखाधड़ी, हत्या का प्रयास, गैंगस्टर एक्ट, आर्म्स एक्ट के तहत आठ मामला यूपी में दर्ज हैं।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।