DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रधानमंत्री ने किया अनुष्का के हौंसले को सलाम

सीबीएसई बोर्ड से दसवीं की परीक्षा में दिव्यांग श्रेणी की ऑल इंडिया टॉपर रही अनुष्का पांडा के संकल्प और हौंसले की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सराहना की है। उन्होंने रविवार को प्रसारित अपने मन की बात कार्यक्रम में अनुष्का पांडा की चर्चा करते हुए कहा कि यदि ठोस संकल्प हो और इरादा बुलंद हो तो कामयाबी हासिल की जा सकती है। उधर, अनुष्का ने अपनी हौंसला अफजाई के लिए प्रधानमंत्री का धन्यवाद किया है। उसने कहा कि वह साफ्टवेयर इंजीनियर बनकर अपने माता पिता और प्रधानमंत्री के सपनों को पूरा करेगी। उसने बताया कि वह पहले भी खूब मेहनत और लगन से पढ़ाई करती थी, लेकिन प्रधानमंत्री के दो शब्दों ने उसके हौंसले को और मजबूत किया है।

46 सेकेंड अनुष्का की चर्चा

प्रधानमंत्री ने अपने मन की बात में 46 सेकेंड अनुष्का के बारे में चर्चा की। इस दौरान टीवी स्क्रीन पर अनुष्का और उसकी माता पिता की कुल छह विडियो क्लिप दिखाई गई। प्रधानमंत्री ने 11 बजकर 11 मिनट 05 सेकेंड पर अनुष्कमा की चर्चा शुरू की और 11 बजकर 11 मिनट 51 सेकेंड तक अनुष्का के संकल्प और हौंसले के संबंध में देश को बताया।

प्रधानमंत्री के शब्द

गुरुग्राम की अनुष्का पांडा, जो दिव्यांग है और जन्म से स्पाइनल मस्कुलर एट्रोफी नामक बीमारी से ग्रसित है, लेकिन उसने अपने ठोस संकल्प और बुलंद हौंसले से सीबीएसई की परीक्षा में कामयाबी हासिल की।

कार्यक्रम के लिए उत्साहित था परिवार

अनुष्का के मुताबिक शनिवार की शाम को ही उसकी मां ने बताया कि प्रधानमंत्री मन की बात में उसका नाम लेने वाले हैं। तब से ही वह इस कार्यक्रम का बेसब्री से इंतजार कर रही थी। वहीं उसकी मां अचर्ना पांडा ने बताया कि दूरदर्शन वालों ने शनिवार को उन्हें इसकी सूचना दी, लेकिन उन्हें भरोसा नहीं हुआ, लेकिन जब ‘हिन्दुस्तान ने सूचना दी तो उनकी खुशी का कोई ठिकाना नहीं रहा। इस सूचना के बाद से वह लगातार टीवी के सामने बैठकर कार्यक्रम शुरू होने का इंतजार कर रही थी। आखिर में 11 बजकर 11 मिनट पर उनका इंतजार खत्म हुआ।

सीबीएसई में हासिल किए 97.8 फीसदी अंक

सन सिटी स्कूल में 11वीं की छात्रा अनुष्का इस साल सीबीएसई बोर्ड में दसवीं की परीक्षा में बैठी थी। इस परीक्षा में उसने 97.8 फीसदी अंक हासिल कर दिव्यांग श्रेणी में ऑल इंडिया टॉपर रही थी। उसने यह उपलब्धि खुद की मेहनत हासिल की थी। उसने बताया कि उसके माता पिता कामकाजी है, इसलिए वह तो केवल वीकेंड पर ही समय दे पाते हैं। नानी सावित्री ने जरूर उसके साथ रहती थी और उन्होंने उसे हिंदी की पढ़ाई कराई है। बाकी विषय उसने अपने दम पर तैयार किया है।

स्मृति इरानी से मिल चुकी है अनुष्का

सीबीएसई बोर्ड का परिणाम आने के बाद तत्कालीन केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री स्मृति इरानी ने 15 जून 2018 को अनुष्का को अपने दफ्तर बुलाकर सम्मानित किया था। उस समय स्मृति इरानी ने अनुष्का की मुलाकात रस्किन बांड और कैलाश सत्यार्थी से भी कराई थी।

कामकाजी हैं माता पिता

अनुष्का के पिता अनूप कुमार पांडा के मुताबिक वह मूल रुप से कोलकाता के रहने वाले हैं और यहां भिवाड़ी स्थित बहुराष्ट्रीय कंपनी सिगवर्क में अधिकारी है। वहीं अनुष्का की मां अर्चना पांडा फरीदाबाद से हैं। वह भी शहर की एक बहुराष्ट्रीय कंपनी में ऑडिटर हैं। उन्होंने बताया कि पहले वह गुजरात के वापी में रहते थे, वर्ष 2015 में ही यहां शिफ्ट हुए हैं।

बचपन से मेधावी है अनुष्का

अनूप पांडा के मुताबिक उनकी इकलौती बेटी अनुष्का जन्म से ही स्पाइनल मस्कुलर एस्ट्रोफी नामक बीमारी से ग्रसित है, लेकिन उसकी परवरिश और शिक्षा में कभी इस बीमारी को आड़े नहीं आने दिया। इसके चलते शुरू से ही वह मेधावी रही है। पढाई के अलावा हिन्दुस्तानी क्लासिकल संगीत में इसकी रुचि है। इसके अलावा वह ड्राइंग करना पसंद करती है। अनुष्का ने बताया कि खाने में वह थोड़ा चूजी है। घर के खाने के बजाय उसे बाहर का खाना ज्यादा पसंद है। वह सोशल मीडिया में तो नहीं है, लेकिन उसका लक्ष्य डिजिटल इंडिया में महत्वपूर्ण भूमिका निभाना है।

क्या है स्पाइनल मस्कुलर एट्रोफी

यह एक आनुवंशिक बीमारी है जो मेरुदंड में मोटर न्यूरॉन नामक तंत्रिका कोशिकाओं पर हमला करता है। इसमें जब न्यूरॉन मरते हैं तो मांसपेशियां कमजोर होती हैं। इससे चलना, सरकना, श्वांस लेना, निगलना और सिर एवं गर्दन का नियंत्रण प्रभावित हो सकता है। आमतौर पर माता-पिता में इसके लक्षण नहीं दिखाई देते, लेकिन उनमें इसका जीन होता है। इस बीमारी का कोई उपचार नहीं है। उपचारों से लक्षण में सहायता मिल सकती है और जटिलताएं रुक सकती हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:The Prime Minister Happened To Anoushka