DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छात्राओं को संविधान की विशेषताएं बताईं

छात्राओं को संविधान की विशेषताएं बताईं

सेक्टर-14 स्थित राजकीय कन्या महाविद्यालय में सोमवार को संविधान दिवस मनाया गया। इसमें छात्राओं को संविधान की प्रस्तावना और अन्य विशेषताओं की जानकारी दी। इस दौरान प्राचार्य सुशीला कुमारी ने कहा कि संविधान में शिक्षा पर विशेष जोर दिया गया है। उन्होंने छात्राओं से अधिक से अधिक पढ़ाई करने का आह्वान भी किया।

इस दौरान प्राध्यापक इंदू यादव ने भारतीय संविधान की प्रस्तावना और विशेषताओं की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि भारत का संविधान विश्व के सबसे पुराने संविधानों में से एक है। इसके अंतर्गत भारतीय नागरिकों को मौलिक अधिकार दिए गए हैं जो कि हमारी स्वतंत्रता का परिचायक है।

हर क्षेत्र में महिलाएं योगदान दे सकती हैं

महाविद्यालय परिसर में आयोजित कार्यक्रम में प्राचार्य सुशीला कुमारी ने कहा कि संविधान निर्माताओं ने महिलाओं के उत्थान के लिए शिक्षा पर विशेष बल दिया है। कहा कि महिलाएं शिक्षित होकर हर क्षेत्र में राष्ट्र के विकास में अपना योगदान दे सकती हैं।

हर नागरिक को समान अधिकार

राजनीतिक विज्ञान की प्राध्यापक डॉ. नीतू काजल ने कहा कि संविधान कमजोर वर्ग व अल्पसंख्यक समूह के लिए सुरक्षा प्रदान करता है। इसका लचीलापन इसके स्थायित्व का प्रमाण है। इसमें हर नागरिक को समान अधिकार है। उन्होंने संविधान की प्रस्तावना भी सभी बच्चों, शिक्षकों एवं कर्मचारियों को पढ़कर सुनाया। इस मौके पर डॉ. पायल अरोड़ा समेत बड़ी संख्या में छात्राएं मौजूद रहीं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Special emphasis on education for the upliftment of women Sushila