DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   NCR  ›  गुरुग्राम  ›  रामप्रस्था सोसाइटी में ही संक्रमितों के लिए इलाज की व्यवस्था

गुड़गांवरामप्रस्था सोसाइटी में ही संक्रमितों के लिए इलाज की व्यवस्था

हिन्दुस्तान टीम,गुड़गांवPublished By: Newswrap
Sun, 09 May 2021 11:10 PM
रामप्रस्था सोसाइटी में ही संक्रमितों के लिए इलाज की व्यवस्था

गुरुग्राम। सेक्टर-37 स्थित रामप्रस्था सोसाइटी कंटेनमेंट जोन में शामिल हो जाने के बाद से किले के रूप में तब्दील हो गई है। बाहरी व्यक्तियों के सोसाइटी में प्रवेश पर रोक के साथ ही सोसाइटी में रहने वाले लोगों को भी बेवजह बाहर जाने की अनुमति नहीं है। इस सख्ती के बीच अब सोसाइटी के लोग एक दूसरे के लिए मदद का सहारा बन रहे हैं। सोसाइटी में मौजूदा समय में 42 संक्रमित मरीज अपने घरों पर रहकर ही कोरोना से जंग लड़ रहे हैं। सोसाइटी के लोगों सहित आरडब्लयूए और सोसाइटी का रखरखाव करने वाली कंपनी ने संक्रमितों के घर पर ही इलाज की व्यवस्था की हुई है। ऑक्सीजन से लेकर आईसीयू सपोर्ट तक संक्रमित मरीजों को उनके घर पर ही उपलब्ध करवाई जा रही है।

सोसाइटी निवासियों के अनुसार दो मई को सोसाइटी को कंटेनमेंट जोन में शामिल किया गया था। यह 12 मई तक कंटेनमेंट जोन की रेणी में रहेगी। सोसाइटी में तीन टावर बने हैं। जिनमें करीब 1200 परिवार रहते हैं। संकट की इस घड़ी में पूरी सोसाइटी एकजुट होकर कोरोना से लड़ाई लड़ रही है। संक्रमित मरीजों के अलावा सोसाइटी में अकेले रहने वाले लोगों को भी परिवार का हिस्सा मानकर सोसाइटी का एक-एक व्यक्ति मदद के लिए आगे आ रहा है और अपने स्तर पर हर संभव प्रयास कर रहा है।

संक्रमितों के लिए कम्यूनिटी किचन शुरू की:

रामप्रस्था सोसाइटी के लोगों ने संक्रमित मरीजों के खाने-पीने का ध्यान रखने के लिए कम्युनिटी किचन की भी शुरूआत की है। रामप्रस्था सिटी एट्रियम टावर निवासी व आरडब्ल्यूए प्रधान प्रदीप राही ने बताया कि सोसाइटी में बुहत से परिवार ऐसे भी हैं, जिनमें सभी लोग संक्रमित हैं और उन्हें भोजन तक देने वाला कोई नहीं है। ऐसे परिवारों और लोगों की मदद के लिए सोसाइटी के लोगों ने स्वेच्छा से कम्यूनिटी किचन की शुरूआत की है। इसके जरिये सोसाइटी की महिलाएं अपने घर में खाना बनाकर संक्रमितों को भिजवाने का काम कर रही हैं, जिससे कि वह भूखे नहीं रहे और उन्हें इलाज के दौरान पौष्टिक आहार भी मिलता रहे।

ऑक्सीजन और बेड के लिए भी लोग कर रहे भागदौड़:

संक्रमित मरीजों को आवश्यकता पड़ने पर उनके लिए ऑक्सीजन सिलेंडर का इंतजाम करने और हालत बिगड़ने पर बेड की व्यवस्था करने के लिए भी सोसाइटी के लोग भागदौड़ कर रहे हैं। लोग घंटों लाइनों में लगकर प्लांट से ऑक्सीजन सिलेंडर भरवाकर भी ला रहे हैं। जिससे कि सोसाइटी में संक्रमित मरीजों को सांसें दी जा सकें। इसके अलावा सोसाइटी में रहने वाले कई डॉक्टर मरीजों को फोन पर चिकित्सीय परामर्श भी मुहैया करवा रहे हैँ। वहीं आरडब्ल्यू प्रबंधान प्रदीप राही ने बताया कि गंभीर मरीजों की सहायता के लिए सोसाइटी प्रबंधन ने आईसीयू सपोर्ट सिस्टम की भी व्यवस्था की है। जिसे जरूरत अनुसार संक्रमित के घर पर सेट कर दिया जाता है।

जरूरत का सामान लोगों के घरों तक पहुंच रहा:

कंटेनमेंट जोन होने के बावजूद संक्रमित मरीजों और अन्य लोगों की जरूरतों का पूरा ध्यान रखा जा रहा है। सोसाइटी का रखरखाव करने वाली कंपनी दैनिक जरूरत का सामान और खान-पान की चीजें संक्रमित मरीजों के घरों तक पूरी सावधानी के साथ सिक्योरिटी गार्ड के जरिये पहुंचा रही है। वहीं अन्य लोग खुद अपने टावर के नीचे आकर सामान लेकर जा रहे हैं। दुकानों से सामान उनके टावर तक पहुंचवाया जा रहा है। जिससे कि लोगों को इनके लिए सोसाइटी के बाहर न जाना पड़े।

अपने स्तर पर रोजाना करवा रहे सेनेटाइजेशन:

सोसइाटी के अन्य लोगों को संक्रमण से बचाने के लिए आरडब्ल्यूए और सोसाइटी प्रबंधन अपने स्तर पर रोजाना सेनेटाइजेशन करवा रहे हैं। सोसाइटी के प्रत्येक ब्लॉक के प्रत्येक फ्लोर पर, लिफ्ट में और कॉमन एरिया में भी नियमित तौर पर सेनेटाइजर का छिड़काव कराया जा रहा है। हालांकि लोगों का कहना है कि नगर निगम की ओर से सोसाइटी में सेनेटाइजेशन का अभी तक भी कोई इंतजाम नहीं किया गया है और न ही कोई निगम का कर्मी कंटेनमेंट जोन बनने के बाद से अभी तक सोसाइटी को सेनेटाइज करने आया है।

बयान:

संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए सोसाइटी में सेनेटाइजेशन के अलावा अन्य कोविड प्रोटोकॉल का भी पालन सख्ती से किया जा रहा है। संक्रमित मरीजों को घर पर ही इलाज की सुविधा मुहैया करवाई जा रही है। ऑक्सीजन से लेकर आईसीयू सपोर्ट सिस्टम की व्यवस्था सोसाइटी में ही की हुई है। संक्रमितों के खाने पीने का भी पूरा ध्यान रखा जा रहा है। व्हाट्सएप ग्रुप भी बनाया हुआ है, जिसमें लोग किसी भी तरह की परेशानी होने पर सूचना दे सकते हैँ। उनकी परेशानी का समाधान कराने की कोशिश रहती है। जरूरत के सभी सामानों की आपूर्ति भी सोसाइटी में ही करवाई जा रही है।

-प्रदीप राही, आरडब्ल्यूए प्रधान

नंबर गेम:

-12 सौ परिवार रहते हैं सोसाइटी में

-42 संक्रमित मरीज सोसाइटी में मिल चुके हैं

-03 समय का भोजन संक्रमितों को कम्युनिटी किचन से पहुंचवाया जा रहा है

संबंधित खबरें