अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डाक विभाग ने मोबाइल की जगह खाली डिब्बा पकड़ाया

डाक विभाग की स्पीड पोस्ट से भेजे गए मोबाइल की जगह उपभोक्ता को डिब्बा मिला है। सही नहीं स्पीड पोस्ट झारखंड पहुंचाने के बजाए गुरुग्राम में भेजने वाले के पते पर ही दे दिया गया। जिसकी शिकायत पीड़ित ने सदर बाजार स्थित मुख्य डाकखाने में कराई है।

सेक्टर 37 स्थित सावा इंटरनेशनल के कर्मचारी चिदिगंबरम पाठक ने 10 सितंबर को स्पीड पोस्ट से मोबाइल झारखंड के लिए कोरियर किया था। झारखंड के छतरा में रिश्तेदार विकास पाठक को सात हजार रुपये का मोबाइल भेजा। लेकिन स्पीड पोस्ट छतरा की बजाए 11 सितंबर को चिदिगंबरम के सेक्टर 37 स्थित कंपनी पहुंच गया। डाक विभाग से जुड़ा कर्मी, पीड़ित के आने से पहले ही कंपनी के गेट पर देकर चला गया। इसके बाद जब पीड़ित ने बॉक्स को खोला तो उससे मोबाइल गायब मिला। जिसकी शिकायत पीड़ित ने तत्काल सदर बाजार स्थित मुख्य डाकखाने में कराई है। शिकायत के दो दिन बाद भी पीड़ित की समस्या का समाधान नहीं हुआ है। वहीं डाक विभाग के प्रवक्ता नरेश गुप्ता ने कहा कि पीड़ित की शिकायत पर मामले की जांच करवा रहे हैं। आरोप सही पाए जाने पर संबंधित अधिकारी पर कार्रवाई होगी।

रोकने पर नहीं रूका डाककर्मी:

पीड़ित चिदिगंबरम पाठक ने बताया कि डाककर्मी जब कंपनी स्पीड पोस्ट देने पहुंचा तो सुरक्षाकर्मियों ने उसे बुलाया। लेकिन जब तक वह गेट पर पहुंचता डाककर्मी पार्सल को गेट पर ही छोड़कर चला गया। कंपनी के सुरक्षा कर्मियों ने डाककर्मी से उसे पार्सल हाथ में देने को कहा। लेकिन डाककर्मी गेट पर ही छोड़कर चला गया। जब उसने पार्सल को गेट पर ही देखा तो बिल्कुल वजन नहीं था। इसके बाद खोलने पर मोबाइल गायब मिला। पीड़ित ने बताया कि मामले की शिकायत को लेकर पुलिस में गया लेकिन उन्होंने उपभोक्ता फोरम में शिकायत करने को कहा। इसके बाद डाक विभाग में शिकायत की है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Postal department gets blank box instead of mobile