DA Image
हिंदी न्यूज़ › NCR › गुरुग्राम › फाइल लेकर विभागों के चक्कर काट रहे लोग
गुड़गांव

फाइल लेकर विभागों के चक्कर काट रहे लोग

हिन्दुस्तान टीम,गुड़गांवPublished By: Newswrap
Tue, 26 Jan 2021 03:00 AM
फाइल लेकर विभागों के चक्कर काट रहे लोग

टाउन एंड कंट्री प्लानिंग के विभागों में लोगों के काम ऑनलाइन नहीं हो रहे हैं। जिससे लोगों को फाइल लेकर विभागों में चक्कर काटने पड़ते हैं। इसमें एसटीपी, डीटीपी प्लानिंग और डीटीपी प्रवर्तन शामिल है। सबसे अधिक दिक्कत जिला नगर योजनाकार प्लानिंग में होती है, यहां से ऑनलाइन नक्शा पास हो जाता है। लेकिन ऑनलाइन कब्जा प्रमाण पत्र नहीं मिलते हैं। 15 दिन के काम एक से डेढ़ महीने लगते हैं। जिससे लोगों को विभाग के अधिकारियों के बार-बार आने पड़ते हैं। ऑनलाइन होने से लोगों को चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे।

विभाग में फाइल लेकर जाना पड़ता है

साउथ सिटी-2 के देवेंद्र, मालिबू टाउन के परविंदर आदि लोगों का आरोप है कि कब्जा प्रमाण पत्र के लिए फाइल लेकर डीटीपी प्लानिंग विभाग में चक्कर काटने पड़ते हैं। अधिकारी द्वारा फाइल मार्क होने के बाद लोगों को यह पता नहीं चलता है कि किसके पास उनकी फाइल गई है। ऑनलाइन होने से सही यह जानकारी हो पाएगी कि कौन अधिकारी उनके काम को देख रहा है। मालिबू टाउा सोसाइटी में कब्जा प्रमाण पत्र पर रोक लगाई है। विभाग और बिल्डर के बीच की लड़ाई से आम लोगों को परेशान होना पड़ता है। इसके अलावा शिकायतें एसडीटीपी और डीटीपी प्रवर्तन में ऑनलाइन दर्ज नहीं होते हैं।

इन विभागों में ऑनलाइन कार्य नहीं हो रहा

वरिष्ठ नगर योजनाकार बिल्डरों से संबंधित काम होते हैं। इसके बाद डीटीपी प्लानिंग में बिल्डर कॉलोनियों के भूखंड पर मकान बनाने से लेकर रहने तक की परमिशन मिलती है। वहीं डीटीपी प्रवर्तन में कृषि भूमि पर मकान या दुकान बनाने के लिए अनुमति मिलती है। कृषि जमीन को व्यावसायिक में बदलने के लिए भूमि उपयोग परिवर्तन (सीएलयू) ऑनलाइन मिलते हैं। वहीं, तीन साल पहले टाउन एंड कंट्री प्लानिंग विभाग के डायरेक्टर केएम पांडूरंग ने आईटी विंग को आदेश दिए थे कि ऑनलाइन सिस्टम तैयार किया जाए। बिल्डिंग प्लान से लेकर कब्जा प्रमाण पत्र तक ऑनलाइन किए जाए, जो अभी तक नहीं हुए हैं।

विभागों में लोगों के कुछ काम ऑनलाइन हो रहे है। जो बिल्डिंग प्लान पास होंगे उसका कब्जा प्रमाण ऑनलाइन मिलने चाहिए। उच्चधिकारियों की तरफ से कोशिश हो रही है। यह भी काम ऑनलाइन शुरू हो जाएंगे। जिससे लोगों को परेशानी नहीं होगी।

-संजीव मान, वरिष्ठ नगर योजनाकार, गुरुग्राम

संबंधित खबरें