ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCR गुरुग्रामभागवत कथा का रसपान कराया

भागवत कथा का रसपान कराया

गुरुग्राम। सेक्टर-29 के लेजरवैली पार्क में श्रीमद्भागवत महापुराण कथा ज्ञान यज्ञ महोत्सव के दूसरे दिन मंगलवार को महामंडलेश्वर आचार्य स्वामी...

भागवत कथा का रसपान कराया
हिन्दुस्तान टीम,गुड़गांवTue, 28 Nov 2023 10:15 PM
ऐप पर पढ़ें

गुरुग्राम। सेक्टर-29 के लेजरवैली पार्क में श्रीमद्भागवत महापुराण कथा ज्ञान यज्ञ महोत्सव के दूसरे दिन मंगलवार को महामंडलेश्वर आचार्य स्वामी ज्योतिर्मयानंद गिरी महाराज ने गौकर्ण की कथा का रसपान कराया। महाराज कथा के दौरान मैकाले शिक्षा पद्धति पर भी बोले। उन्होंने कहा यह शिक्षा पद्धति हमारे बच्चों को संस्कारों से दूर लेकर जा रही है। स्वामी ने पाप कर्म से बचने तथा अधिक से अधिक पुण्य करने के उपदेश कथा के माध्यम से दिए। भागवत के बारे में बोलते हुए महामंडलेश्वर ने कहा कि भागवत पवित्र कर्मपद्धति को भी जन्म देती है, जिससे हमारी पीढ़ी में संस्कार पैदा होते हैं। कथा को सुनकर श्रोता भाव विभोर हो गए।
कथावाचक महामंडलेश्वर ने कथा में बताया कि तुंगभद्रा नदी के तट पर आत्मदेव नामक व्यक्ति की पत्नी धुंधुली काफी झगड़ालू प्रवृति की स्त्री थी। आत्मदेव संतान न होने के कारण परेशान रहता था और उसे यह चिंता सतती थी कि संतान का मुख देखने को नहीं मिलेगा तो पिंडदान कौन करेगा। दुखी मन से एक दिन आत्मदेव आत्महत्या के लिए कुआं में कूदने वाला था तभी एक ऋषि ने उसे बचा लिया। आत्मदेव ने ऋषि को अपने दुखों के कारणों का बताया। यह सुनकर ऋषि ने आत्मदेव को फल देते हुए कहा कि इसे तुम अपनी पत्नी को खिला देना, इससे एक संतान की प्राप्ति होगी।

महाराज ने कथा को जारी रखते हुए कहा कि घर जाकर आत्मदेव ने फल अपनी पत्नी को दिया, लेकिन पत्नी ने सोचा कि अगर गर्भवती वो गई तो 9 महीने तक कहीं आने-जाने का मौका नहीं मिलेगा। अंततः उसने फल को नहीं खाया। एक दिन उसकी बहन घर आई। उसने सभी किस्सा बहन को सुनाया। बहन ने कहा मैं गर्भवती हूं। प्रसव होने पर बच्चा तुम्हें दे दूंगी। तुम ये फल गाय को खिला दो। आत्मदेव की पत्नी ने अपनी बहन की बात में आकर फल गाय को खिला दिया। कुछ दिन के बाद धुंधुली को उसकी बहन ने बच्चा दे दिया। स्वामी ने कहा कि हमें सदमार्ग पर चलने हुए हमेशा भगवत नाम का स्मरण करते रहना चाहिए, क्योंकि भगवत नाम लेने से ही मुक्ति मिलती है। कथा में मुख्य रूप से गौ सेवा आयोग के वाइस चेयरमैन पूरन यादव, राम नरेश,अनिल विमल (सेवा निवृत्त सेशन जज)महानगर संघचालक जगदीश ग्रोवर, शिक्षाविद अशोक दिवाकर, शिक्षाविद इन्दु राव , बलजीत यादव , हीरालाल, एमपी गोयल रेवाड़ी ,सुरेश बाबू गोयल, सोने लाल कश्यप व प्रमोद शर्मा आदि उपस्थित रहे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें