अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सरकारी कॉलेज में प्लेसमेंट के लिए आएंगी आईटी कंपनियां

सरकारी कॉलेज में प्लेसमेंट के लिए आएंगी आईटी कंपनियां

कौशल संचार प्रोजेक्ट कार्यक्रम में पंहुचे विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय के कुलपति राज नेहरू ने कहा कि छात्रों को सरकारी कॉलेजों से ही प्लेसमेंट मिल सके, इसकी कोशिश की जा रही है। ऐसी व्यवस्था बनाई जा रही है कि वहां आईटी कंपनियां और उद्योग पहुंचे। कॉलेज जॉब फेयर का आयोजन करे।

सोमवार को सेक्टर-14 स्थित गुरुग्राम कन्या महाविद्यालय से कौशल कार्यक्रम "होनिंग द मिलेनियल-नेक्स्ट जेन" को शुरू किया गया है। हरियाणा विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय और उच्च शिक्षा विभाग ने मिलकर डिग्री कॉलेजों से पास करने वाले छात्रों के लिए इसकी शुरुआत की है। इस प्रोजेक्ट के तहत छात्रों को 40 घंटे के कोर्स में बाजारों मांग के मुताबिक तैयार किया जा रहा है। उन्हें हुनरमंद बनाया जाएगा, जिससे नौकरी पाने के काबिल बन सकेंगे।

80 प्रतिशित छात्र नौकरी के लायक नहीं

कुलपति राज नेहरू ने कहा कि पिछले तीन साल के आंकडों के अनुसार 45 लाख छात्रों ने पूरे देश में डिग्री ली। उनमें से 80 प्रतिशित छात्रों को नौकरी नहीं मिली। क्योंकि छात्रों में कौशल संचार की कमी मिली। यह चिंता का विषय है। इस प्रोजेक्ट को लांच कर छात्रों को हुनरमंद बनाया जाएगा।

शिक्षक भी होंगे प्रशिक्षित

वीसी राज नेहरू ने कहा कि इस प्रोजेक्ट के तहत एक साल में चार जिलों के कॉलेज के शिक्षकों को प्रशिक्षित किया जाएगा। उसके बाद उनको बच्चों को प्रशिक्षित करने की जिम्मेदारी दी जाएगी। अगर यह योजना कामयाब रही तो देश में डिग्री करने वाले छात्र को बेरोजगार नहीं होना पड़ेगा।

विद्यार्थियों से मिलीं प्रमुख सचिव

प्रमुख सचिव ज्योति अरोड़ा सेक्टर-14 गुरुग्राम कन्या महाविद्यालय में विद्यार्थियों से मिलीं। पढ़ाई के बारे में जानकारी हासिल की। इसके अलावा उन्होंने अपना अनुभव भी साझा किया। क्लास में छात्राओं की कम संख्या देख कर शिक्षिका से इसका कारण भी पूछा। उपस्थिति रजिस्टर भी जांच की।

हर कॉलेज के बोर्ड पर हो पाठ योजना

प्रमुख सचिव ने कहा कि हर कॉलेज में कक्षा के बाहर पाठ योजना लगी होनी चाहिए। ताकि कॉलेज में आने वाले छात्रों को पहले से पता होगा कि आज क्या पढ़ाया जाएगा। उसका कौन सा प्रोजेक्ट छुट गया है। वहीं उन्होंने यह भी कहा कि सेक्टर-14 कॉलेज में पाठ योजना सही से कक्षाओं के बाहर प्रस्तुत नहीं किए गए हैं। उन्हें सही तरीके से प्रस्तुत करना होगा।

63 कॉलेज में है भाषा लैब

प्रमुख सचिव ने बताया कि हरियाणा के 63 कॉलेज में भाषा लैब हैं। उसमें सी++ भाषा, जावा, फाइनेंस कोर्स, जीएसटी कोर्स सहित अन्य कोर्स को चलाया जा रहा है। इससे हर साल एक कॉलेज से 300 से ज्यादा बच्चे भाषा सीखते हैँ। इसके अलावा इस साल प्रदेश में मुख्यमंत्री की घोषणा के 28 कॉलेजों को शुरू करने का प्रयास किया जाएगा।

हर कॉलेज में होगी सुझाव पेटी

प्रमुख सचिव ज्योति अरोड़ा ने बताया कि हर कॉलेज में सुझाव पेटी लगाए जाएगी। शिक्षक और विद्यार्थी गुमनाम तरीके सुझाव और शिकायत दे सकेगें। हर कॉलेज की प्राचार्य की जिम्मेदारी होगी वह हर शिकायत और सुझाव को उत तक पहुंचाए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:IT companies will come for placement in government college