ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCR गुरुग्रामलापरवाही बरतने पर सारे होम्स के आईआरपी निलंबित

लापरवाही बरतने पर सारे होम्स के आईआरपी निलंबित

गुरुग्राम। भारतीय इंसॉल्वेंसी और दिवालियापन बोर्ड (आईबीबीआई) की अनुशासनात्मक समिति ने सेक्टर-92 स्थित सारे...

लापरवाही बरतने पर सारे होम्स के आईआरपी निलंबित
हिन्दुस्तान टीम,गुड़गांवTue, 14 May 2024 11:30 PM
ऐप पर पढ़ें

गुरुग्राम। भारतीय इंसॉल्वेंसी और दिवालियापन बोर्ड (आईबीबीआई) की अनुशासनात्मक समिति ने सेक्टर-92 स्थित सारे होम्स सोसाइटी में दिवालियापन प्रक्रिया के तहत नियुक्त आईआरपी (इंटरिम रेज्यूलेशन प्रोफेशनल) अजीत ज्ञानचंद जैन को जांच के बाद निलंबित कर दिया है। जांच में आईबीबीआई ने संहिता, विनियमों और आचार संहिता की कई धाराओं के तहत प्रक्रिया में नियमों का उल्लंघन पाया है। आईआरपी को दो साल के तहत निलंबित किया है।
आईबीबीआई की अनुशासनात्मक समिति की जांच में पाया कि आईआरपी ने कॉरपोरेट देनदार की लावारिस इकाइयों के विवरण में लापरवाही बरती। आईबीबीआई ने घर खरीदारों के दावों को स्वीकार करने में उनकी विफलता पर ध्यान दिया, जिनके दावे कॉरपोरेट देनदार के रिकॉर्ड में दायर किए हुए थे, लेकिन औपचारिक रूप से इन्हें दायर नहीं किया। इकाइयों के भुगतान, कब्जे और स्वामित्व विवरण से संबंधित पब्लिक नोटिस में विसंगतियां पाई गई। घटनाओं और प्रस्तुतियों की गहन जांच के बाद अनुशासनात्मक समिति ने आईआरपी के आचरण के संबंध में गंभीर टिप्पणियां की हैं। इस परियोजना की आवंटी डॉ. अंजना आनंद का कहना है कि आईआरपी ने क्लेम की सही जानकारी नहीं दी। इस वजह से लोग आवेदन नहीं कर सके। बता दें कि बिल्डर के दिवालिया घोषित होने के बाद सारे होम्स सोसाइटी में निर्माणाधीन टावरों को पूरा करने का कार्य एक कंपनी को सौंपा गया था। इसमें आईआरपी नियुक्त किया था।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।