DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

निजी अस्पताल की मनमानी की शिकायत

शहर के एक निजी अस्पताल की मनमानी का मामला सामने आया है। अस्पताल में भूतपूर्व स्वास्थ्य योजना (ईसीएचएस) के तहत रेफर होकर पहुंचे पूर्व वायुसेना अधिकारी का चिकित्सकों ने तत्काल इलाज करने से इंकार कर दिया। इलाज के लिए अस्पताल के चिकित्सकों ने पीड़ित को पांच घंटे इंतजार करने को कहा। इससे आहत होकर अफसर ने सीएमओ कार्यालय में अस्पताल के खिलाफ लिखित शिकायत दी है।

मानेसर सेक्टर-1 निवासी रमेश कुमार एयरफोर्स में सार्जेंट के पद से सेवानिवृत्त हुए हैं। 25 जुलाई को सुबह वह भूतपूर्व सैनिक स्वास्थ्य योजना (ईसीएचएस) के तहत रेफर होकर एक निजी अस्पताल गए थे। यहां सुबह 10:45 बजे अस्पताल ने उनका इलाज करने से मना कर दिया गया। अस्पताल के रजिस्ट्रेशन काउंटर पर कहा गया कि ईसीएचएस से जो लोग रेफर होकर आते हैं,उनको ओपीडी में शाम को तीन से पांच बजे के बीच में ही डॉक्टर देखते हैं। इस पर उन्होंने अस्पताल की प्रशासक से बात की तो उन्होंने भी कहा कि अस्पताल का यही नियम है। आप को इंतजार करना ही पड़ेगा।

900 रुपये देते ही इलाज का समय मिला

रमेश कुमार ने बताया कि वह अस्पताल में पांच घंटे इंतजार नहीं कर सकते थे। ऐसे में उन्होने ईएनटी के डॉक्टर को ओपीडी में दिखाने के लिए 900 रुपये की फीस दी। इस पर उनको 15 मिनट के बाद ही डॉक्टर ने देख लिया। अस्पताल के इस रवैये से आहत होकर रमेश कुमार ने 26 जुलाई को सीएमओ गुलशन राय अरोड़ा को शिकायत दी। मगर कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

कोई कार्रवाई नहीं

शिकायत के बाद भी स्वास्थ्य विभाग ने अभी तक कार्रवाई नहीं की। इस बारे में जब अस्पताल का पक्ष जानने की कोशिश की गई तो अस्पताल के डॉक्टर ने ईमेल पर प्रश्न भेजने के लिए कहा। चिकित्सक का कहना है कि, इसके बाद ही वह अपना जवाब दे सकेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Inappropriate treatment to the retired officer of the Air Force in hospital