DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिजली कट लगने से प्रभावित हो रही पेयजल सप्लाई

शहर के जलशोधन संयंत्रों पर बिजली कट लगने से पानी की सप्लाई प्रभावित हो रही है। बसई और चंदू बुढेड़ा संयंत्र पर औसतन तीन से चार घंटे कट लग रहे हैं। इस कारण पानी का दबाव नहीं बन पाता। इससे पेयजल सप्लाई सुचारू करने में परेशानी आ रही है। बसई जलशोधन संयंत्र पर दौलताबाद और सेक्टर-दस फीडर से सप्लाई आ रही है। जबकि चंदू बुढेड़ा संयंत्र को गढ़ी हरसरू की पावर लाइन से सप्लाई मिल रही है। बसई संयंत्र से 60 एमजीडी और चंदू बुढेड़ा संयंत्र से 22 एमजीडी पानी सप्लाई किया जाता है। अधिकारियों ने बताया कि पिछले कई दिनों से दोनों संयंत्रों पर बिजली कट लग रहे हैं। कभी 15 मिनट तो कभी 60 मिनट तक का बिजली कट लग जाता है। औसतन दिनभर में तीन से चार घंटे कट लगता है। अगर पांच मिनट के लिए भी संयंत्र बंद होता है । पाइप लाइनों से पानी संयंत्र की ओर बहने लगता है। बिजली सप्लाई आने पर पानी को दोबारा तय दबाव से पानी छोड़ने में करीब 40 से 60 मिनट लग जाते हैं। यही कारण है कि बिजली कट के चलते लोगों को पेयजल समस्या से भी जूझना पड़ रहा है। बिछाई जा रही है नई लाइन जलशोधन संयंत्र के प्रभारी सत्यवीर सिंह का कहना है कि चंदू बुढेड़ा संयंत्र के लिए दौलताबाद से 11केवी की अलग लाइन बिछाने का काम अंतिम चरण में है। आने वाले दिनों में यहां बिजली कट की परेशानी से निजात मिल जाएगी। बसई संयंत्र में 24 घंटे सप्लाई के लिए पावर हाउस बनाने की योजना है। हुडा ने इसके लिए जमीन का निर्धारण भी कर दिया है। आगे की प्रक्रिया को बिजली निगम अमल में लाएगा। संयंत्र में भरपूर पानी है। अगर बिजली आपूर्ति बिना रुकावट मिलती रहे तो अंतिम छोर पर बसे सेक्टरों में भी पर्याप्त पानी पहुंचाया जा सकेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Drinking water affected by power cuts