DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शिवालय हर-हर महादेव के घोष से गूंजे

शिवालय हर-हर महादेव के घोष से गूंजे

सावन के पहले सोमवार को साइबर सिटी शिवभक्ति में डूबी रही। शहर के मुख्य शिवालयों को फूलों से सजाया गया था। मंदिर परिसर से दरबार तक फूलों से आकर्षक नजर आ रहे थे। वहीं पूजा-अर्चना के लिए सुबह से शिवालयों में भक्तों की भीड़ लग गई। भक्तों ने दूध-गंगाजल से शिवलिंग का अभिषेक कर मनोवांछित फल मांगे। वहीं कुंआरी कन्याओं ने अच्छा पति मिलने के लिए व्रत रखा। दिनभर हर-हर महादेव, बम-बम भोले के घोष से मंदिर गूंजते रहे। इधर भीड़ के मद्देनजर पुलिस-प्रशासन की तैयारी नहीं दिखी। मंदिरों के आसपास सुरक्षा व्यवस्था मुकम्मल नजर नहीं आई। गनीमत रही कि भीड़ के बावजूद कोई अप्रिय घटना नहीं घटी।

सिद्धेश्वर मंदिर से घंटेश्वर मंदिर तक पर भीड़ दिखी

सावन के पहले सोमवार पर शहर के प्राचीन शीतला माता मंदिर, सोहना रोड स्थित सिद्धेश्वर मंदिर, पटौदा रोड घंटेश्वर मंदिर, रेलवे रोड स्थित चिन्तपूर्ण मंदिर, राजीव नगर गुफावाला शिव मंदिर में भक्तों की भीड़ दिखी। यहां महिला श्रद्धालुओं ने दही, घी आदि से रुद्राभिषेक किया।

19 साल बाद सोमवार से सावन की शुरुआत

इस साल सावन सोमवार से शुरू हो रहा है। ऐसा संयोग 19 साल बाद आया है, जब शिव को प्रिय सावन महीने की शुरुआत उनके प्रिय दिन सोमवार से हो रही है। पंडित लक्ष्मीकांत गोस्वामी ने इस संबंध में बताया कि 19 साल बाद सावन मास की शुरुआत सोमवार से होने के अद्भुत संयोग से इसका महत्व बढ़ गया है।

भक्तों में उत्साह दिखा

पंडित पुरुषोत्तम दास झा ने बताया कि रेलवे रोड स्थित चिन्तपूर्ण मंदिर में सुबह 5 बजे से जलाभिषेक लिए भक्त पहुंचने लगे थे। सावन माह की शुरुआत सोमवार से होने भक्तों में ज्यादा उत्साह देखा गया।

सुरक्षा के इंतजाम होने चाहिए थे

सावन के पहले सोमवार पर मंदिरों में भीड़ के बावजूद सुरक्षा इंतजाम न रहने पर पुजारियों ने नाखुशी जाहिर की है। पंडित पुरुषोत्तमदास झा का कहना है कि पुलिस को भीड़ के मद्देनजर सुरक्षा इंतजाम करने चाहिए थे। इस दौरान महिला श्रद्धालु भी आती हैं, पुलिस की मौजूदगी में भरोसा बढ़ता है, मगर यहां पुलिस की ड्यूटी नहीं लगाई गई थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Devotees worshiped and worshiped Shivling from milk-ganga jal