DA Image
हिंदी न्यूज़ › NCR › गुरुग्राम › द्वारका एक्सप्रेसवे की स्लैब में आई दरार, गिरने का डर
गुड़गांव

द्वारका एक्सप्रेसवे की स्लैब में आई दरार, गिरने का डर

हिन्दुस्तान टीम,गुड़गांवPublished By: Newswrap
Sat, 31 Jul 2021 11:10 PM
द्वारका एक्सप्रेसवे की स्लैब में आई दरार, गिरने का डर

गुरुग्राम। विवादों में रहने वाले निर्माणाधीन द्वारका एक्सप्रेसवे की स्लैब में फिर दरार आ गई है। दौलताबाद चौक से खेड़कीदौला के तरफ जाने वाले मार्ग पर एक्सप्रेसवे के पैकेज तीन में निर्माणाधीन एलिवेटेड हिस्से के पिलर नंबर 174 और 175 के बीच में डली स्लैब में यह दरार आई है। इसके गिरने का भी खतरा बना हुआ है। दरार आने के बाद निर्माण कंपनी ने शनिवार शाम को उसे हरा पर्दा लगाकर ढकने का काम शुरू कर दिया।

यह दरार शनिवार को ही लोगों द्वारा देखी गई। इस बारे में निर्माण कंपनी के कर्मचारी चुप्पी साधे हुए है। इससे पहले इसी साल 28 मार्च को पैकेज 3 के ही पिलर नंबर 107 और 109 के बीच दो स्लैब अचानक भरभराकर गिर गई थी। उसके नीचे दबने से तीन मजदूर घायल हो गए थे। घटना में किसी की जान-माल का नुकसान नहीं हुआ था। एनएचएआई ने कमेटी गठित कर घटना की जांच के आदेश दिए थे। एनएचएआई के अधिकारियों के अनुसार उस मामले की जांच रिपोर्ट हाल ही में कमेटी ने सौंपी है। इसपर मंथन किया जाना बाकी है। उसके बाद ही पता चल पाएगा कि रिपोर्ट में कमेटी ने क्या निष्कर्ष निकाला है। इस बीच एक बार फिर स्लैब में दरार आना अधिकारियों के लिए भी चिंता का विषय बन गया है।

पैकेज-3 में चार महीने से एलिवेटेड हिस्से पर बंद है काम

मार्च में स्लैब गिरने की घटना की जांच रिपोर्ट न मिलने की वजह से एनएचएआई ने निर्माण कंपनी को एलिवेटेड हिस्से में काम करने की अनुमति नहीं दी थी। बीते चार महीने से पैकेज तीन में एलिवेटेड हिस्से का काम बंद पड़ा है। हालांकि, एनएचएआई की अनुमति पर एलिवेटेड हिस्से के नीचे सर्विस रोड पर काम जारी है। दोनों घटनाओं में सामान्य बात यह है कि दोनों जगह लांचर लगाने के बाद दरारें आई हैं। एक्सप्रेसवे के पैकेज तीन में एलिवेटेड हिस्से में और भी जगह डली स्लैब में कई अन्य स्थानों पर भी दरारें आई हैं। जिसे कंपनी ने बाद में सीमेंट भरकर उसे ठीक किया हुआ है।

निर्माण पर उठाए सवाल, जांच की मांग

साई कुंज आरडब्ल्यूए के प्रधान राकेश राणा ने दोबारा स्लैब में दरार आने पर द्वारका एक्सप्रेसवे के निर्माण पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने अंदेशा जताया है कि द्वारका एक्सप्रेसवे के निर्माण में घटिया सामग्री का इस्तेमाल किया जा रहा है। इसकी शिकायत उन्होंने शनिवार को ट्विटर पर प्रधानमंत्री कार्यालय और केंद्रीय सड़क, परिवहन एवं राष्ट्रीय राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी से की और इसकी उच्च स्तर पर जांच कराने की भी मांग की।

एक्सप्रेसवे के दो पैकेज गुरुग्राम में हैं

29 किलोमीटर लंबा द्वारका एक्सप्रेसवे दिल्ली के महिपालपुर स्थित शिव मूर्ती से गुरुग्राम के खेड़कीदौला तक बन रहा है। इस एक्सप्रेसवे का निर्माण चार पैकेज में हो रहा है। इनमें से दो पैकेज गुरुग्राम में आते हैं। एक्सप्रेसवे का 18.9 किमी हिस्सा गुरुग्राम में है। जबकि 10.1 किमी हिस्सा दिल्ली में पड़ता है। इसके निर्माण पर करीब नौ हजार करोड़ रुपये की लागत आनी है।

कंपनी से मांगा गया जवाब

एनएचएआई के परियोजना निदेशक (द्वारका यूनिट) निर्माण जंभुलकर ने बताया कि मामले की सूचना मिलने के बाद निर्माण करने वाली कंपनी से जवाब मांगा गया है। कंपनी ने बताया है कि वह गार्डर डालकर टेस्ट कर रहे थे कि बार-बार स्लैब में दरार क्यों आ रही है। कंपनी का कहना है कि पूरी सावधानी के साथ सभी मापदंडों का पालन करते हुए यह टेस्ट किया जा रहा है।

संबंधित खबरें