DA Image
28 जनवरी, 2021|4:04|IST

अगली स्टोरी

साइबर सिटी में रिकॉर्ड 25 हजार से अधिक की कोविड जांच

साइबर सिटी में रिकॉर्ड 25 हजार से अधिक की कोविड जांच

मिलेनियम सिटी में नए संक्रमित मरीजों की पहचान करने के लिए बीते आठ महीनों में शनिवार को जिला स्वास्थ्य विभाग ने एक दिन में रिकॉर्ड तोड़ कोराना जांच की। महा-अभियान चलाकर शनिवार को स्वास्थ्य विभाग की ओर से 25 हजार 101 लोगों के नमूने कोरोना जांच के लिए एकत्रित किए गए। इनमें से 4989 नमूनों की जांच रैपिड एंटीजन किट से कर रिपोर्ट मौके पर ही दे दी गई। जबकि 20112 नमूने आरटीपीसीआर टेस्ट के लिए इकट्ठे किए गए। पूरे प्रदेश में जिले ने कोरोना जांच का शनिवार को एक नया कीर्तीमान स्थापित किया। जिला स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का दावा है कि दिल्ली के बाद एनसीआर के अन्य जिलों में एक दिन में इतनी कोरोना जांच किसी भी जिले में नहीं हुई है।

जांच करने के लिए टीमें अपने-अपने निर्धारित स्थानों पर सुबह सात बजे ही पहुंच गई थी। टीमों में संबंधित क्षेत्र के चिकित्सा केंद्र के डॉक्टरों के अलावा लैब तकनीशियन शामिल रहे। टीमों ने कड़ी मेहनत से बिना रुके लोगों के नमूने एकत्रित किए। जांच शिविर शाम तक चले जहां हजारों की संख्या में लोग अपनी कोरोना जांच कराने खुद भी पहुंचे थे। बॉर्डर और बस स्टैंड सहित मॉल में भी लोगों की कोरोना जांच की गई। पूरे प्रदेश में पांच लाख जांच करने वाला गुरुग्राम पहला जिला बन गया है। बीते आठ महीनों में विभाग ने कोरोना जांच के लिए 505314 नमूने लिए हैं। इनमें से 431594 नमूनों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आ चुकी है। जबकि 15287 नमूनों की जांच रिपोर्ट सरकारी लैब से आना अभी बाकी है।

50 से ज्यादा जगह लगाए गए थे शिविर

रिकॉर्डतोड़ जांच के लिए विभाग ने 50 से ज्यादा जगह पर कोरोना जांच शिविर लगाए गए थे। ये शिविर कंटेनमेंट जोन के अलावा कापसहेड़ा बॉर्डर, खेड़कीदौला टोल, खांडसा अनाज मंडी सहित अन्य बाजारों और सार्वजनिक स्थानों पर भी लगाए गए थे। जहां आने-जाने वालों की विभाग की टीमों ने कोरोना जांच की। इसके अलावा जांच सेक्टर-10 नागरिक अस्पताल, सिविल लाइंस स्थित पुराने नागरिक अस्पताल और सोहना व पटौदी के उप-मंडल अस्पतालों के अलावा सभी प्राथमिक व सामुदायिक चिकित्सा केंद्रों में भी की गई थी। जांच का दायरा बढ़ाने के लिए विभाग ने विभिन्न आरडब्लयूए का भी सहारा लिया था। जिनके सहयोग से सेक्टरों और सोसाइटियों में भी कोरोना जांच शिविर लगाकर वहां रहने वाले लोगों के नमूने लिए गए। इससे पहले एक दिन में 10 हजार 200 नमूनों की कोरोना जांच करने का रिकॉर्ड विभाग ने एक दिन में इसी माह 21 नवंबर को बनाया था।

लक्षणों के आधार पर मरीजों को किया जाएगा भर्ती

अस्पतालों में बेड को लेकर चल रही मारामारी को रोकने के लिए भी जिला स्वास्थ्य विभाग ने सभी निजी अस्पतालों को इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) की गाइडलाइन के अनुसार ही मरीजों को भर्ती करने के निर्देश दिए हैं। दरअसल कोविड संक्रमित होने पर लोगों के मन में अपने स्वास्थ्य को लेकर चिंता बढ़ जाती है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बताया कि कई मरीज ज्यादा लक्षण न उभरने के बाद भी एहतियातन अस्पतालों में आकर भर्ती हो रहे हैं। ऐसे में बेड भर जाने से उन मरीजों को भर्ती करने में अस्पतालों को दिक्कत हो रही है, जिनकी संक्रमण के कारण हालत गंभीर हुई है। इसे देखते हुए विभाग ने निजी अस्पतालों को लक्षणों के आधार पर ही मरीज को भर्ती करने के निर्देश दिए हैं। उन्हें केवल गंभीर स्थिति वाले संक्रमित मरीजों को ही अस्पतालों में भर्ती करने को बोला गया है। इसके अलावा कम लक्षण वाले मरीजों को डेडिकेटेड कोविड हेल्थ केयर सेंटर में, संदिग्ध मरीजों को कोविड केयर सेंटर में और बिना लक्षण वाले एसिंप्टोमैटिक श्रेणी के संक्रमित मरीजों को घर पर ही रहकर इलाज कराने की हिदायत दी गई है।

संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए संक्रमित मरीजों की समय पर पहचान करना जरूरी है। इसी के लिए जांच का दायरा बढ़ाया जा रहा है। शनिवार को एक दिन में विभाग की टीमों ने कोरोना जांच के लिए 25 हजार से भी ज्यादा नमूने लिए। जिले में 50 से ज्यादा स्थानों पर विभाग की ओर से कोरोना जांच शिविर लगाए गए थे। ये शिविर आगे भी जारी रहेंगे। लोग यहां अपनी जांच करवा सकते हैँ।

-डॉ. वीरेंद्र यादव, सिविल सर्जन

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Covid investigation of more than 25 thousand records in cyber city