ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCR गुरुग्रामताजनगर रेलवे हाल्ट के 11 वर्ष पूरे होने पर केक काटा

ताजनगर रेलवे हाल्ट के 11 वर्ष पूरे होने पर केक काटा

गांव ताजनगर में ग्रामीणों ने चंदा एकत्रित कर बनाए गए ताजनगर रेलवे हाल्ट के 11 वर्ष पूरे होने पर केक काटकर और मिठाई बांट कर वर्षगांठ मनाई। ग्रामीणों...

ताजनगर रेलवे हाल्ट के 11 वर्ष पूरे होने पर केक काटा
हिन्दुस्तान टीम,गुड़गांवTue, 05 Jan 2021 10:50 PM
ऐप पर पढ़ें

गांव ताजनगर में ग्रामीणों ने चंदा एकत्रित कर बनाए गए ताजनगर रेलवे हाल्ट के 11 वर्ष पूरे होने पर केक काटकर और मिठाई बांट कर वर्षगांठ मनाई। ग्रामीणों ने पूर्व रेलमंत्री लालू प्रसाद यादव और केंद्रीय राव इंद्रजीत सिंह का आभार भी प्रकट किया।

किसान नेता राव मानसिंह, समाजसेवी राव बाल किशन, राव सूबे सिंह सहाब, सरपंच ललील यादव, अजीत सिंह यादव, शिवताज प्रजापति, चौधरी राजेंद्र सिंह, पूर्व हेड मास्टर राव रामकिशन, भीम सिंह सारवान, हरभजन सिंह बाजवा आदि ने बताया कि गांव ताजनगर में यातायात के साधनों से परेशान और रेल यात्रा के लिए चार पांच किलो मीटर कच्चे रास्तों से निजात पाने के लिए गांव ताजनगर में ही रेलवे स्टेशन बनाने की नींव 1984 में रखी थी। जब रेल मंत्री लालू यादव बने तो उन्होंने केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत सिंह के आग्रह पर इस रेलवे स्टेशन को स्वीकृति प्रदान की थी, लेकिन बजट के अभाव में रेल विभाग ने जब हाथ खडे कर दिए तो ग्रामीणों इस काम को सिरे चढ़ाने के लिए गांव में पंचायत कर करीब 30 लाख रुपये की राशि एकत्रित की और गांव ताजनगर में अपना रेलवे स्टेशन ही बना दिया था। उन्होंने बताया कि इतना ही नहीं ग्रामीणों ने करीब 50 लाख रुपये और एकत्रित किए गांव की पंचायत भूमि में बाबा मंशाराम विवाह समारोह स्थल भी तैयार कर दिया। उन्होंने बताया कि आज के ही दिन केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत सिंह 2010 में रेलवे स्टेशन का उद्घाटन किया और क्षेत्र के लोगों के लिए रेल गाड़ी के ठहराव की व्यवस्था की थी। ग्रामीणों ने अपने चंदे से हर रोज करीब पांच सौ टिकट भी खरीदीं, कहीं रेल विभाग इस रेलवे स्टेशन को कम राजस्व के चलते बंद ना कर दे। ग्रामीणों की मेहनत रंग लाई और जिला गुरुग्राम में सबसे ज्यादा यात्री ताजनगर रेलवे स्टेशन से रेल सफर करते हैं। इस मौके पर बलबीर सिंह, वेदपाल, सुबेदार सुरेश, कैप्टन रामानंद, रामंकवार, वीर बहादूर लम्बरदार, रोहताश लम्बरदार, हरीश , लक्खी राम, नवीन फौजी, बलवान, रामेश्वर, हुकम सिंह, मुन्ना सिंह, प्रदीप यादव, रमेश शर्मा, महाबीर सिंह, रामनिवास, कुलदीप कटारिया, जसवंत सिंह प्रजापति, रतिराम, खुशीराम, हरीश यादव, धर्मेंद्र कुमार आदि मौजूद थे।