DA Image
5 जून, 2020|7:22|IST

अगली स्टोरी

एनएबीएच से प्रमाणित अस्पताल को 25 प्रतिशत ज्यादा लाभ

प्रधानमंत्री जन आरोग्य (आयुष्मान भारत) योजना के तहत नैशनल एक्रिडेशन बोर्ड ऑफ अस्पताल(एनएबीएच) प्रमाणित अस्पताल को अब लाभ होगा। यहां गोल्डन कार्ड धारकों का इलाज करने पर सरकार की ओर से 15 से 25 प्रतिशत का अतिरिक्त लाभ दिया जाएगा। इसकी जानकारी शुक्रवार को स्वास्थ्य मुख्यालय से आए अधिकारियों ने निजी अस्पतालों प्रबंधकों के साथ हुई बैठक में दी गई। बैठक में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ-साथ जिले के 30 निजी अस्पतालों के प्रंबधक भी मौजूद थे।

आयुष्मान भारत योजना के स्टेट नोडल अधिकारी डॉ. रवि विमल ने शुक्रवार को जिला नागरिक अस्पताल में पहुंचकर जिला स्वास्थ्य अधिकारियों को जानकारी दी। इस योजना से जुड़ने पर निजी अस्पताल को लाभ ही होगा। सीसीएचएस या अन्य किसी पैनल के साथ जुड़ने के बाद भी अस्पताल इस योजना से जुड़ सकता है। इसके लिए सरकार की ओर से पैकेज निर्धारित किए गए हैं।

सभी इलाज पैकेज के अनुरूप करने होंगे। गोल्डन कार्ड धारकों का इलाज करने पर उनकी जानकारी विभाग को देनी होगी। उन्होंने सभी निजी अस्पताल के प्रबंधकों आश्वस्त किया कि समय रहते सभी भुगतान जारी किया जाएगा। इसके अलावा एनएबीएच अस्तपाल को पैकेज में 15 से 25 प्रतिशत का अतिरिक्त लाभ भी अस्तपाल को मिलेगा।

जिला नोडल अधिकारी डॉ. अनुज गर्ग ने कहा कि योजना का लाभ लेने के लिए जिले के दो दर्जन से अधिक अस्पताल पैनल से जुड़ चुके हैं। इसके अलावा पांच हजार से ज्यादा गोल्डन हेल्थ कार्ड जारी किए गए हैं।

निजी अस्पतालों की दिलचस्पी नहीं

-आयुष्मान भारत योजना में शहर के बड़े निजी अस्पताल पैनल करवाने में दिलचस्पी नहीं ले रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा कई बार अस्पताल के संचालकों और उनके मेडिकल सुपरीटेंडेंट को पैनल करवाने के लिए कहा गया। उसके बावजूद अस्पतालों द्वारा पैनल पर नहीं करवाया गया। अभी तक सिर्फ 20 अस्पताल ही पैनल पर आए हैं। हालांकि योजना को शुरू हुए सवा महीने हो चुके हैं, लेकिन उसके बावजूद शहर के बड़े निजी अस्पतालों ने पैनल नहीं करवाया। ऐसे में उनकी दिलचस्पी नहीं लेना साफ जाहिर हो रहा। जिले 300 से ज्यादा छोटे बड़े अस्पताल हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Ayushman Yojana 25 percent more benefits to the hospital certified by NABH