DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   NCR  ›  गुरुग्राम  ›  संक्रमित मरीज बढ़ने से 24 नए इलाके हॉट स्पॉट में तब्दील

गुड़गांवसंक्रमित मरीज बढ़ने से 24 नए इलाके हॉट स्पॉट में तब्दील

हिन्दुस्तान टीम,गुड़गांवPublished By: Newswrap
Thu, 13 May 2021 11:30 PM
संक्रमित मरीज बढ़ने से 24 नए इलाके हॉट स्पॉट में तब्दील

जिले में आए दिन बढ़ रहे संक्रमित मरीजों के कारण कोरोना के हॉट-स्पॉट वाले इलाकों में भी इजाफा हुआ है। इनकी कुल संख्या बढ़कर अब 176 हो गई है। बुधवार रात जिलाधीश डॉ. यश गर्ग की ओर से जारी किए गए लार्ज आउट ब्रेक रीजन के आदेशों में 24 नए इलाकों को हॉट-स्पॉट की सूची में शामिल किया है। जिससे पहले हॉट-स्पॉट इलाकों की संख्या 152 थी। इन इलाकों में संक्रमण के प्रसार की रोकथाम के लिए इन्हें प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र वार 27 भागों में बांटा गया है। यहां कंटेनमेंट के नियम सख्ती से लागू किए जाएंगे और अवहेलना करने वालों के खिलाफ आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 व भारतीय दंड संहिता 1860 के विभिन्न प्रावधानों के अंतर्गत कार्रवाई की जाएगी।

जिलाधीश डॉ. यश गर्ग द्वारा जारी किए गए नए आदेशानुसार शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र चंद्रलोक के क्षेत्र में 19, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पटेल नगर के क्षेत्र में 15, शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र नाथूपुर के क्षेत्र में 14 और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बादशाहपुर व चौमा के क्षेत्रों में 9- 9 कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं। स्वास्थ्य केंद्र फिरोज गांधी कॉलोनी, कासन और वजीराबाद में 7--7 कंटेनमेंट जोन बने हैं। जबकि राजीव नगर, भांगरोला, फाजिलपुर स्वास्थ्य केंद्रों के क्षेत्रों में 6- 6 कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं। राजेंद्रा पार्क और भोड़ाकलां स्वास्थ्य केंद्रों के क्षेत्रों में 5--5 कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं। इन कंटेनमेंट जोन में रोकथाम के प्रयास करने के लिए जिलाधीश द्वारा अधिकारियों की ड्यूटियां भी लगाई गई हैं।

इन क्षेत्रों में आवागमन पर रहेगी रोक

संबंधित इलाकों के एसडीएम को उस क्षेत्र के एसीपी के साथ तालमेल करके कंटेनमेंट जोन की सीमाएं तय करके और उसमें प्रवेश व निकासी के पॉइंट निर्धारित करने के निर्देश दिए गए हैं। निर्धारित सीमाओं पर बैरिकेडिंग लगाने का कार्य लोक निर्माण विभाग द्वारा पुलिस आयुक्त व संबंधित एसडीएम से परामर्श लेकर किया जाएगा। लोगों की सुविधा के लिए हेल्पलाइन, क्या करे- क्या न करें, बचाव उपायों आदि के बारे में सूचनाएं, प्रवेश व निकासी स्थानों पर सांझा की जाएंगी। अनावश्यक रूप से इन इलाकों में आवागमन पर रोक रहेगी।

घर-घर जाकर जांच करेंगे स्वास्थ्य कर्मी

बड़े प्रकोप वाले क्षेत्रों में हर घर में रहने वाले प्रत्येक व्यक्ति की डोर टू डोर स्क्रीनिंग और थर्मल स्कैनिंग के लिए पर्याप्त संख्या में स्वास्थ्य विभाग की टीमें लगाई जाएंगी। सर्वे के दौरान जिन लोगों में लक्षण दिखाई देंगे उनकी कोरोना जांच कवाई जाएगी। जरूरत पड़ने पर गंभीर रूप से बीमार या पहले से अन्य गंभीर बीमारियों से ग्रस्त मरीजों को क्वारंटाइन या आइसोलेशन सुविधा या अस्पताल में शिफ्ट किया जाएगा। इन ज्यादा पॉजिटिव केसों वाले क्षेत्रों में सीरो सर्वे भी किया जाएगा।

सैनिटाइजेशन पर रहेगा जोर

इन क्षेत्रों को नगर निगम व अन्य संबंधित एजेंसियों द्वारा पूरी तरह से सैनिटाइज किया जाएगा। इन क्षेत्रों में आयुष विभाग द्वारा रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली दवाइयां वितरित करने का अभियान भी चलाया जाएगा और बुजुर्गों व 10 साल से कम उम्र के बच्चों व गर्भवती महिलाओं का विशेष ध्यान रखा जाएगा। इसके अलावा इन क्षेत्रों में मास्क पहनने व सामाजिक दूरी रखने आदि सहित हाथ धोने, स्वास व पर्यावरणीय स्वच्छता के बारे में भी लोगों को जागरूक किया जाएगा।

आवश्यक वस्तुओं की दुकानें खुली रहेंगी

बड़े प्रकोप वाले क्षेत्रों में इन उपायों को लागू करते समय वहां पर सामाजिक आर्थिक गतिविधियों पर कम से कम प्रतिकूल प्रभाव पड़े, इस बात का ध्यान रखा जाएगा। इन क्षेत्रों में आवश्यक वस्तुओं की दुकानों और वाणिज्यिक प्रतिष्ठान के संचालन को अनुमति होगी। इनके समय, दिन और श्रेणी के विभाजन के लिए संबंधित एसडीएम द्वारा उस क्षेत्र के निगम पार्षद, मार्केट एसोसिएशन व आरडब्लूए के साथ विचार विमर्श करके संचालन की गाइड लाइन बनाई जाएंगी। इन क्षेत्रों में कच्चा राशन, दूध, दवा, सब्जियां व अन्य ग्रोसरी का सामान खाद्य एवं आपूर्ति नियंत्रक, नगरनिगम और जिला औषधि नियंत्रक के सहयोग से पहुंचाया जाएगा।

संबंधित खबरें