DA Image
हिंदी न्यूज़ › NCR › गुरुग्राम › निगम सदन की बैठक में हंगामे के बीच 20 प्रस्ताव पास
गुड़गांव

निगम सदन की बैठक में हंगामे के बीच 20 प्रस्ताव पास

हिन्दुस्तान टीम,गुड़गांवPublished By: Newswrap
Tue, 12 Oct 2021 03:00 AM
निगम सदन की बैठक में हंगामे के बीच 20 प्रस्ताव पास

गुरुग्राम। सिविल लाइंस स्थित जॉन हाल में सोमवार को नगर निगम सदन की बैठक हुई। करीब सात घंटे चली बैठक में शहर वासियों के लिए कई सौगातों के साथ 20 प्रस्ताव पाए हुए। सदन की मंजूरी के बाद 40 करोड़ से अधिक के विकास कार्य हो सकेंगे। इसमें एक से 32 वार्ड तक 565 किलोमीटर लंबी सीवर लाइन की सफाई पर 23 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। वहीं नगर निगम एरिया में एक लाख 71 हजार घरों में पानी के नए मीटर लगेंगे। इस पर निगम 17 करोड़ रुपये खर्च करेगा। इससे लोगों को फ्लैट रेट से पानी बिल नहीं आएगा। हालांकि, इस दौरान शहर में बदहाल सीवर समस्या पर पार्षदो ने हंगामा किया। पार्षदों ने इस कार्य में घोटाले तक का आरोप लगाया।

मेयर मधु आजाद ने सदन की कार्यवाही शुरू करने से पहले वार्ड 34 से चुनी गई पार्षद रमा रानी राठी का शपथ ग्रहण कराया। उन्होंने सरकार की ओर से नियुक्त किए गए तीन पार्षदों का सदन में स्वागत किया। इसके बाद प्रश्नकाल से सदन की कार्यवाही शुरू हुई। जनता से जुड़ी शहर की जनसमस्याओं को लेकर सामान्य सदन की बैठक में पार्षद सीमा पाहुजा का सबसे अधिक जोर इस बात पर रहा कि अगले साल नगर निगम के चुनाव आ जाएंगे। ऐसे में जनता की सहूलियतों से जुड़े प्रस्ताव पिछली सदन में पास कर लिए गए थे, लेकिन वार्ड में सीवर की सफाई नहीं हुई। 40 लाख रुपये के टेंडर किए गए, लेकिन अभी तक 20 लाख के ही काम हुए हैं। सीवर की समस्या जस की तस है। पार्षदों का कहना है कि पांच लाख में होने वाले कार्य पर निगम अधिकारी 40 लाख खर्च कर रहे हैं। निगम अधिकारियों पर सीवर की सफाई में घोटाला करने का आरोप लगाया। वर्ष 2018 में 17 करोड़, वर्ष 2019 में 42 करोड़ और वर्ष 2020-21 में 34 करोड़ रुपये खर्च हो चुके हैं। इतने पैसे खर्च होने के बाद सेक्टर से लेकर कॉलोनियों में सीवर ओवरफ्लो है।

23 करोड़ से वार्डो में सीवर की सफाई होगी:

निगम के मुख्य अभियंता ठाकुर लाल शर्मा ने पार्षदों के लगाए गए आरोप का जवाब देते हुए कहा कि वर्ष 2008 में निगम बनने के बाद गली-मोहल्ले वाइज सीवर की सफाई होती थी। अब समय बदल गया है। मशीनों से सफाई करवाई जाती है। एक से 32 वार्ड तक 23 करोड़ रुपये की लागत से सीवर लाइन की सफाई होगी। 25 किलोमीटर तक सीवर सफाई पर एक मशीन होगी। अगली बारिश आने से पहले सीवर सफाई कार्य पूरा हो जाएंगे।

1.71 लाख पानी के नए मीटर लगेंगे:

निगम सदन में पानी की बर्बादी रोकने के लिए 1.71 लाख पानी के नए मीटर लगाने की अनुमति दी गई। इस पर 17 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। इसके लिए चार लैब होंगे। इसमें मीटरों की जांच होने के बाद उपभोक्ता के कनेक्शन लगाए जाएंगे। इससे लोगों को पानी का अधिक बिल देने से राहत मिलेगी। अभी बिना मीटर के आठ हजार से लेकर 20 हजार तक बिल फ्लैट रेट की दर से निगम भेजता है। अनुमान है कि मीटर लगाने से लोगों को 90 प्रतिशत बिल राशि कम हो जाएगी।

मॉडल रोड बनाने क मंजूरी

निगम सदन की ओर से 30 नवंबर तक सभी वार्डों में मॉडल सड़क बनाने की मंजूरी दी गई है। एक वार्ड में पांच सड़कें होंगी। इस पर स्ट्रीट लाइट, फुटपाथ, साइकिल ट्रैक समेत अन्य तरह की सुविधाएं होंगी। इसकी कार्ययोजना चुनाव से पहले तैयार क ली जाएगी।

कंपनियों से वसूले 53 करोड़:

बैठक में निगम क्षेत्र में जनवरी 2020 से सितंबर 2021 तक राईट ऑफ वे के तहत दी गई स्वीकृतियों का पूर्ण ब्योरा सदन के समक्ष रखा गया। इस अवधि के दौरान 98 स्वीकृतियां दी गईं हैं। 53.30 करोड़ के राजस्व की वसूली गई है। नगर निगम द्वारा अपना इन्फ्रास्ट्रक्चर तैयार करने की दिशा में कार्य किया जाएगा, ताकि राजस्व बढ़ सके।

कॉलोनी की डीपीआर 20 दिन में तैयार करें

नगर निगम गठन से लेकर अब तक बिल्डर कॉलोनियों को निगम के हवाले करने के बारे में पारित किए गए प्रस्तावों पर भी चर्चा हुई। इसके साथ ही कौन सी कॉलोनी किस स्तर पर लंबित है, उन कॉलोनियों की रिपोर्ट सदन के समक्ष प्रस्तुत की गई। अधिकारियों ने बताया कि वर्ष 2016-17 में 8 कॉलोनियां तथा वर्ष 2019-20 में 11 कॉलोनियां टेकओवर करने का निर्णय सरकार की तरफ से हुआ है। 11 कॉलोनियों में की डीपीआर अक्तूबर माह के अंत तक तैयार कर ली जाएगी। इसमें डीएलएफ फेज-4 से 5, मालिबू टाउन, आरडी सिटी, सुशांतलोक फेज-2 से 3 आदि शामिल हैं।

संबंधित खबरें