Unipole cutting campaign stops officers make excuse not to get cutter on rent - यूनिपोल काटने का अभियान थमा रहा, अफसरों ने बनाया किराए पर कटर न मिलने का बहाना DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

यूनिपोल काटने का अभियान थमा रहा, अफसरों ने बनाया किराए पर कटर न मिलने का बहाना

-जिलाधिकारी के आदेश भी हवा में उड़ाएगाजियाबाद। वरिष्ठ संवाददातानगर निगम ने दूसरे दिन भी डीएम के आदेशों की हवा निकाल दी। कटर किराए पर न मिलने का बहाना बनाकर कोई यूनिपोल नहीं काटा जा सका। कार्रवाई बतौर कुछ यूनिपोल से विज्ञापन के फ्लैक्स जरूर उतरवाए गए। जिलाधिकारी रितु मोहश्वरी ने नगर निगम को शहर में अवैध यूनिपोल काटने का आदेश दिया था। निगम को शहर के अवैध यूनिपोल दस दिनों के भीतर कटवाने हैं। डीएम के आदेश पर बुधवार की रात तो नगर निगम अधिकारी यूनिपोल काटने के लिए सड़कों पर उतरे। रात में कविनगर जोन में कलेक्ट्रेट व हापुड़ चुंगी के आसपास नौ यूनिपोल काटे भी गए, लेकिन उन्हें ग्रीन बेल्ट में ही छोड़ दिया गया। अगले दिन यानी गुरुवार को नगर निगम के अधिकारियों को यूनिपोल काटने के लिए शहर में कोई भी कटर व हैडरा किराए पर नहीं मिला। लिहाजा यूनिपोल काटने का अभियान दम तोड़ गया। इसी तरह शुक्रवार को भी नगर निगम के अधिकारी जिलाधिकारी के आदेश को हवा में उड़ाते रहे। शहर में कटर व हैडरा किराए न मिलने का बहाना कर दिया। जिसकी वजह से कोई भी यूनिपोल नहीं काटा जा सका। यही वजह है कि शहर में अवैध यूनिपोल कर कुनबा बढ़ता जा रहा है। अधिकारी नस्मस्तक नजर आ रहे हैं। नगर आयुक्त ने दिखाई सख्तीनगर आयुक्त सीपी सिंह ने अधिकारियों पर मामूली सख्ती जरूर दिखाई है। अपर नगर आयुक्त आरएन पांडेय को अपने कार्यालय में तलब कर 24 घंटे के भीतर शहर में अवैध यूनिपोल पर रिपोर्ट मांगी है। साफ कर दिया कि यूनिपोल काटने में बेपरवाही किसी भी हाल में बर्दाश्त नहीं होगी। एक कंपनी को दिया 2.61 करोड़ का नोटिसशहर में 68 कंपनियों के साथ विज्ञापन के यूनिपोल लगाने के लिए बीओटी हुई थी। बीओटी के तहत हर कंपनी के साथ यूनिपोल लगाने का स्थान और संख्या तय हुई थी, लेकिन अफसरों का कहना है कि किसी भी कंपनी ने बीओटी की शर्तों का पालन नहीं किया और संख्या से अधिक यूनिपोल सड़कों पर लगा दिए। अब यही यूनिपोल शहर की सुंदरता को बिगाड़ रहे हैं। इसीलिए नगर आयुक्त ने एक कंपनी को 2.61 करोड़ का नोटिस दिया है। साफ किया कि जो भी कंपनी समय से शुल्क जमा नहीं करेगी। उसके यूनिपोल अवैध माने जाएंगे। ----217 यूनिपोल लगे हैं अवैधशहर में 217 यूनिपोल अवैध लगे हैं। जिन्हें ही काटने के लिए अभियान शुरू किया गया था, लेकिन बुधवार की रात कर्मचारी मात्र नौ यूनिपोल ही काटकर चले गए। इसके बाद यूनिपोल काटने की कोई सुध नहीं ली गई।----मेरठ व नोएडा से मंगाएंगे हैडरा व कटरनगर निगम के अधिकारियों को जिले में हैडरा व कटर किराए पर नहीं मिल रहे हैं। अब अधिकारियों ने अवैध यूनिपोल कटवाने के लिए मेरठ व नोएडा में संपर्क करना शुरू किया है। अधिकारियों का कहना है कि दूसरे जिलों से हैडरा और कटर को किराए पर लिया जाएगा। ----कटर को किराए पर मंगाया जा रहा है। फिर से यूनिपोल काटने का काम शुरू किया जाएगा। हालांकि सभी अवैध यूनिपोल से फ्लेक्स और होर्डिंग हटाए जा रहे हैं। कार्रवाई जारी रहेगी। -सीपी सिंह, नगर आयुक्त

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Unipole cutting campaign stops officers make excuse not to get cutter on rent