ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCR गाज़ियाबाद बजट में माफी की घोषणा के बाद भी बिजली बिल आने से दिक्कत

बजट में माफी की घोषणा के बाद भी बिजली बिल आने से दिक्कत

अनुपूरक बजट में घोषणा के बाद भी तीन हजार से अधिक किसानों को ट्यूबवेल का बिजली बिल माफ होने का इंतजार है। किसानों की मांग है कि घोषणा के अनुसार...

बजट में माफी की घोषणा के बाद भी बिजली बिल आने से दिक्कत
हिन्दुस्तान टीम,गाज़ियाबादTue, 20 Feb 2024 07:30 PM
ऐप पर पढ़ें

गाजियाबाद। अनुपूरक बजट में घोषणा के बाद भी तीन हजार से अधिक किसानों को ट्यूबवेल का बिजली बिल माफ होने का इंतजार है। किसानों की मांग है कि घोषणा के अनुसार विद्युत निगम को बिल माफ करना चाहिए, जिससे राहत मिल सके।
नवंबर में प्रदेश सरकार की पेश किए अनुपूरक बजट में प्रदेश के सभी किसानों की ट्यूबवेल के बिजली के बिल माफ करने की घोषणा की गई थी। इसके लिए बजट में 800 करोड़ रुपये की व्यवस्था की गई थी। घोषणा के अनुसार प्रदेश किसानों से अप्रैल 2023 के बाद से ट्यूबवेल की बिजली की कोई बिल नहीं लिया जाएगा। बजटीय घोषणा को करीब चार माह बीत चुके हैं फिर इस संबंध में कोई कार्रवाई नहीं हो सकी है।

विद्युत निगम की ओर किसानों की ट्यूबवेल के लिए प्रति माह बिल भेजे जा रहा हैं। किसान अपने बिल माफी के लिए की गई घोषणा लागू करने की मांग कर रहे हैं। विद्युत निगम के अधिकारियों का कहना है कि बिल माफी के संबंध में शासकीय आदेश नहीं मिला है। आदेश मिलने पर इस संबंध में कार्रवाई की जाएगी।

बिल को लेकर किसानों में दुविधा

किसानों को बिजली के बिल मिल रहे हैं, वे दुविधा में हैं। किसानों का कहना है कि जब गत अप्रैल के बाद से बिजली के बिल माफ होने हैं तो उन्हें राहत देनी चाहिए। वहीं, बिल जमा न करने पर उन्हें विभागीय कार्रवाई का डर भी सता रहा है।

केवल मीटर लगे ट्यूबवेल के बिल माफ होंगे

विद्युत निगम के अधिशासी अभियंता ग्रामीण महेश उपाध्यान का कहना है कि जिले अभी मात्र 25 प्रतिशत ट्यूबवेल में मीटर लगे हैं। अभी जिले में बिजली के उन्हीं किसानों को भेजे जा रहे हैं, जिनके ट्यूबवेल मीटर लगाए जा चुके हैं। मीटर न होने के कारण सभी को बिजली के बिल नहीं मिल पा रहे हैं। बिल माफी घोषणा का लाभ उन्हीं किसानों को मिलेगा जिनकी ट्यूबवेल पर मीटर लगे हैं। बिल माफी को लेकर शासन की ओर से कोई आदेश नहीं मिला है।

बिल माफी की घोषणा को चार माह हो गए हैंं फिर भी कार्रवाई नहीं हुई। किसान इसका इंतजार कर रहे हैं।-संजय भारद्वाज, तलहैटा

जिन किसानों ने बिजली के मीटर लगवाए हैं, उनको बिल भेज जा रहे हैं, जबकि बहुत से लोग बिना मीटर के फ्री की बिजली का इस्तेमाल कर रहे हैं।

-आदित्य चौधरी, सुल्तानपुर

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें