DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शेयर वॉल से बनेंगे प्रधानमंत्री आवास

गाजियाबाद में बनने वाले प्रधानमंत्री आवास योजना के घर ईंट से नहीं बनाए जाएंगे। दो पिलरों के बीच में (कंक्रीट से बनी) शेयर वाल लगाई जाएगी। इससे मकान में लगने वाली सामग्री की गुणवत्ता भी बेहतर होगी और कम समय में ज्यादा मकान तैयार हो सकेंगे। वहीं, कोयल एन्क्लेव में 12 मंजिला इमारतें बनाई जाएंगी। हर मकान 22.77 वर्ग मीटर का बनाया जाएगा। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत संचालित योजना के अंतर्गत गाजियाबाद में 36 हजार ईब्ल्यूएस श्रेणी के मकान बनाए जाने हैं। इन मकानों को बनाने के लिए जीडीए ने एक सलाहकार एजेंसी का चयन किया है। सलाहकार एजेंसी ने जीडीए को पूरी रिपोर्ट दे दी है। सलाहकार एजेंसी ने जीडीए को ईंट की जगह दो पिलरों के बीच में कंक्रीट से बनी दीवार लगाने का सुझाव दिया है। उनका तर्क है कि इससे बहुमंजिला इमारत में लगने वाली निर्माण सामग्री की गुणवत्ता बेहतर होगी। इसके साथ ही यह मकान कम समय में तैयार हो सकेंगे। अभी तक पिलर के बीच में ईंट से दीवार बनाई जाती रही है। अब इन पिलर के बीच में शेयर वाल लगाई जाएगी। यह शेयर वाल खांचे में मसाला भरकर तैयार कराई जाती है। खांचे में सूखकर तैयार होने के बाद इसे दो पिलरों के बीच में लगा दिया जाता है। इससे दीवार और इमारत मजबूत रहती है। शेयर वाल का प्लास्टर भी नहीं किया जाता है। ऐसे में दीवार का मसाला नहीं झड़ता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Prime Minister's residence will be made from stockwhite