DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

साढ़े 17 लाख के घोटाले में पूर्व सीएमओ समेत चार पर मुकदमा

- मुरादाबाद स्वास्थ्य विभाग में 2011 में घोटाला - एनआरएचएम घोटाले के आरोप में आरोप तय एनआरएचएम योजना में मुरादाबाद जिले के स्वास्थ्य विभाग में हुए घोटाले में तत्कालीन सीएमओ, दो डॉक्टरों समेत चार पर आरोप तय हो गया। सीबीआई के विशेष न्यायाधीश ने पुख्ता साक्ष्य के आधार पर सभी आरोपियों के खिलाफ अदालत में मुकदमा चलाने की अनुमति दे दी है। बसपा शासनकाल में एनआरएचएम की धनराशि से मुरादाबाद स्वास्थ्य विभाग में लाखों रुपये की दवा व चिकित्सीय उपकरण की खरीदारी हुई थी। सीबीआई के विशेष लोक अभियोजक ने अदालत को बताया कि वर्ष 2010-2011 में सीबीआई ने मुकदमा दर्ज किया था। सीबीआई ने आरोप पत्र में तत्कालीन सीएमओ डॉ. एसके मलिक, डॉ. प्रकाश चंद, डॉ. जे एन शर्मा और लखनऊ का दवा कारोबारी नीरज श्रीवास्तव आरोपी हैं। चारों पर दवा खरीदारी में कारोबारी से सांठगांठ करके करीब साढ़े 17 लाख की गड़बड़ी करके सरकारी राजस्व को नुकसान पहुंचाने का आरोप है। बचाव पक्ष के अधिवक्ता ने सीबीआई के आरोपों को निराधार बताया। सीबीआई के विशेष न्यायाधीश पवन कुमार तिवारी ने सीबीआई के आरोपों को पुख्ता साक्ष्य मानते हुए मुकदमा चलाने का पर्याप्त आधार माना। इसके बाद आरोपियों के खिलाफ वारंट जारी किया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Four crores including former CMO scam in the Rs.1.5 million scam