DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भरण-पोषण भत्ता ना देने पर एक माह की कैद

- फास्ट ट्रैक कोर्ट ने भेजा जेल - हैसियत के बावजूद पति नहीं दे रहा खर्चा अदालत के आदेश के बावजूद पत्नी को भरण-पोषण भत्ता नहीं देने वाले पति को एक माह की कैद सुनाई गई है। फास्ट ट्रैक कोर्ट ने अदालत के आदेश का उल्लंघन करने के आरोपी पति को सजा सुना दी। आरोपित करीब डेढ़ लाख रुपये भत्ता जमा कराने पर जेल से रिहा कर दिया जाएगा। आरोपी पति पंकज दिल्ली के प्रीतमपुरा का रहने वाला है। उसकी शादी 16 मई 2011 में साहिबाबाद के डिफेंस कालोनी में रहने वाली आरती से हुई थी। शादी के कुछ वर्ष दोनों के संबंध बिगड़ने लगे। पति के प्रताड़ना से परेशान पत्नी मायके में रहने लगी। उसने अपने हर्जे-खर्चे के लिए अदालत में प्रार्थना पत्र दी थी। अदालत ने पति पंकज की हैसियत देखते हुए उसने पांच हजार रुपये प्रतिमाह का भत्ता देने का आदेश दिया। लेकिन पति ने अदालत का आदेश नहीं माना। अदालत के आदेशानुसार पति पर अब तक 1.48 लाख रुपये का भत्ता बकाया था। अदालत के विशेष न्यायाधीश ने गुरुवार को पति पंकज के खिलाफ अदालत के आदेश के उल्लंघन के आरोप में एक माह की सजा सुना दी। एक माह के भीतर आरोपित रकम देने पर रिहा कर दिया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:For one month's imprisonment for non-maintenance allowance