DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मोदीनगर की रिफाइंड ऑयल डिपो भयंकर आग

मोदीनगर स्थित एक रिफाइंड ऑयल के डिपो में मंगलवार रात भीषण आग लग गई। आग इतनी भयंकर थी कि काबू पाने के लिए गाजियाबाद के अलावा मेरठ और हापुड़ की 16 दमकल गाडियों को बुलाना पड़ा। लगातार 18 घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका। इस दौरान करीब तीन करोड़ का तेल व अन्य सामान जलकर राख हो गया।

सैदपुर-चुड़ियाला मार्ग स्थित कृभको इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड के करीब 500 एकड़ में फैले डिपो परिसर में ही फॉर्च्यून रिफाइंड ऑयल का भी डिपो है। मंगलवार रात करीब 11 बजे डिपो के एक टर्मिनल में अचानक आग लग गई। देखते ही देखते आग ने भयानक रूप ले लिया। आग की सूचना पर पहुंची दमकल की गाडियों ने आग पर काबू पाने का प्रयास किया, लेकिन ऑयल के जखीरे में लगी आग भड़कती चली गई।

आसमान में आग की उंची उठती लपटे देखकर मौके पर ग्रामीणों की भीड़ जमा हो गई। आग काबू न होती देख मेरठ, परतापुर, गाजियाबाद, मोदीनगर और साहिबाबाद से दमकल की गाड़ियां बुलाई गईं। करीब 16 दमकल की गाडियां रातभर और बुधवार दिन भर आग बुझाने में लगी रहीं।

बुझने के बाद भी बार-बार भड़कती रही आग

सुबह करीब नौ बजे आग पर काबू पा लिया गया था। दमकलकर्मी लौटने ही वाले थे कि आग की चपेट में आए सामानों में एक बार फिर आग भड़क उठी। इसके बाद एक बार फिर आग बुझाने का सिलसिला चालू हुआ। दोपहर 12 बजे आग पर फिर काबू पा लिया गया। इसके बावजूद दमकल की कई गाड़ियां रह-रहकर निकल रहे धुएं और उससे निकलने वाली आग को बुझाने में लगे रहे। शाम पांच बजे आग पर पूरी तरह से काबू पाया जा सका।

पास के टर्मिनल में आग की आशंका से सहमे रहे

कृभको परिसर में करीब ढाई बीघा क्षेत्र में फॉर्च्यून ऑयल के तीन टर्मिनल हैं। एक टर्मिनल से दूसरे के बीच 20 मीटर का फासला है। तीनों टर्मिनल में करोड़ो का ऑयल व अन्य सामान मौजूद रहता है। आग बुझाने के दौरान दमकल कर्मियों और डिपो के कर्मचारियों को इसका ध्यान रखना पड़ा कि आग दूसरे टर्मिनल को अपनी चपेट में न ले ले।

पेट्रोल पंप पर भी दहशत में रहे लोग

तेल डिपो में लगी आग की लपटों से निकली चिंगारी दूर-दूर तक जाकर गिर रही थी। कईं बड़ी चिंगारी हाईवे पर शुगर मिल के निकट स्थित पेट्रोल पंप पर जाकर गिरी। इन चिंगारियों को देख पेट्रोल पंप पर तैनात कर्मचारी भी रातभर बचने के उपाय करते रहे। पेट्रोल पंप पर मौजूद रमेश ने बताया कि पूरी रात वह और उसके साथी रातभर जागकर चौकसी करते रहे।

तीन करोड़ का माल जला

डिपो प्रबंधक अमित कुमार पांडेय के अनुसार आग में करीब तीन करोड़ का ऑयल व अन्य सामान जलकर राख हो गया। गनीमत रही कि डिपो पर मौजूद लोग समय रहते बाहर निकल गए। आग में डिपो कार्यालय में मौजूद कंप्यूटर, फर्नीचर आदि सामान जलकर राख हो गया।

जांच के बाद ही आग लगने का कारण पता चल पाएगा। प्रथम दृष्टया मामला शार्ट सर्किट से आग का लग रहा है। अब आग पर पूरी तरह काबू पा लिया गया है।

आके यादव, एफएसओ, मोदीनगर

पहले भी क्षेत्र में आग लग चुकी है

दो साल पहले भी मोदीनगर के सौंदा रोड और गोविंदपुरी की छोटी मार्किट स्थित क्रैप बैंडेज की फैक्टरियों में भी आग लग गई थी। दोनों ही फैक्टरियों में लाखों की बैंडेज के अलावा अन्य सामान जलकर राख हो गया था।

--------

फैक्टरी में आग लगी, डेढ़ घंटे बाद काबू पाया

लोनी। ट्रॉनिका सिटी की एक फैक्टरी में प्लास्टिक स्क्रैप में भीषण आग लग गई। ट्रॉनिका सिटी से फायर ब्रिगेड की एक गाड़ी मौके पर पहुंची और घंटों की मशक्त के बाद आग पर काबू पाया। समय रहते आग पर काबू पाने से फैक्टरी में बड़ा नुकसान होने से बच गया।

तीमारपुर दिल्ली निवासी प्रदीप गुप्ता की ट्रॉनिका सिटी के सेक्टर ए-2 में वाहनों के बंपर बनाने की फैक्टरी है। बुधवार सुबह 7:30 बजे फैक्टरी में प्लास्टिक स्क्रैप में आग लग गई। ट्रॉनिका सिटी से फायर ब्रिगेड की एक गाड़ी मौके पर पहुंची और डेढ़ घंटे की मशक्त के बाद आग पर काबू पाया। आग फैलने की आशंका को देखते हुए अग्निशमनकर्मियों ने साहिबाबाद फायर स्टेशन से भी गाड़ियां बुलाई थी, लेकिन काबू पाने के बाद उन्हें रास्ते से ही वापस कर दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:fire in refind oil depot in modinagar