ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCR गाज़ियाबाद तापमान बढ़ने से एमएमजी अस्पताल का हीट वेव वार्ड फुल

तापमान बढ़ने से एमएमजी अस्पताल का हीट वेव वार्ड फुल

तापमान बढ़ने से एमएमजी अस्पताल के वार्ड फुल हो गए हैं। वार्ड में ज्यादातर हीट वेव के शिकार हुए मरीज भर्ती हैं। गर्मी में लू लगने से प्रतिदिन ढ़ाई सौ...

तापमान बढ़ने से एमएमजी अस्पताल का हीट वेव वार्ड फुल
हिन्दुस्तान टीम,गाज़ियाबादThu, 23 May 2024 07:30 PM
ऐप पर पढ़ें

गाजियाबाद। तापमान बढ़ने से एमएमजी अस्पताल के वार्ड फुल हो गए हैं। वार्ड में ज्यादातर हीट वेव के शिकार हुए मरीज भर्ती हैं। गर्मी में लू लगने से प्रतिदिन ढ़ाई सौ से ज्यादा मरीज इलाज के लिए पहुंच रहे हैं। इन्हें ओपीडी से उपचार के बाद आराम करने की सलाह दी जा रही है। इसी तरह संयुक्त अस्पताल में भी डिहाइड्रेशन के मरीजों की संख्या बढ़ी हैं।
एमएमजी अस्पताल में गुरुवार को बुद्ध पूर्णिमा पर अवकाश के चलते सुबह 11 बजे तक ही ओपीडी रही। लेकिन इसके बाद भी मरीजों की भारी भीड़ रही। गुरुवार को कुल 1025 नए मरीजों ने अपना पंजीकरण कराया। हालांकि 1000 से ज्यादा पुराने मरीज इलाज के लिए पहुंचे। इमरजेंसी में 67 मरीजों ने उपचार कराया। अस्पताल आने वाले मरीजों में गर्मी से लू लगने की वजह से उल्टी जैसी और चक्कर आने की समस्या को लेकर 250 से ज्यादा मरीज ओपीडी में पहुंचे। अस्पताल के वार्डों में हालत यह रही कि 131 बेड पर मरीज भर्ती रहें। मेडिकल वार्ड और हीट वेव वार्ड में मरीजों की भारी संख्या रही। इमरजेंसी में एक बेड पर दो-दो मरीजों का लिटाकर इलाज किया गया। इसी तरह संयुक्त अस्पताल में भी डिहाइड्रेशन के मरीज बढ़े हैं। गर्मी में अस्पताल में ज्यादातर मरीजों को पानी की कमी पूरी करने के लिए ग्लूकोज की बोतल लगानी पड़ रही है।

बुखार के मरीजों में इजाफा

एमएमजी अस्पताल में 20 सितंबर 2021 से मई 2024 तक 261183 मरीज बुखार से पीड़ित पहुंचे हैं। इनमें 18 साल से कम आयु 68605 बच्चे शामिल रहे। जबकि 192578 व्यस्क मरीज रहे। अभी भी अस्पताल में रोजाना 300 से ज्यादा मरीज बुखार के पहुंच रहे हैं। इनमें 15 साल तक के बच्चों की संख्या 24 प्रतिशत है। संजय नगर स्थित संयुक्त अस्पताल में पिछले तीन साल में बुखार के 143265 मरीज पहुंचे। इनमें 19 प्रतिशत संख्या 15 साल तक के बच्चों की रही है। जिला एमएमजी अस्पताल के सीनियर फिजिशियन डॉ. आलोक रंजन बताते हैं कि सामान्य रूप से गर्मियों में बुखार का प्रकोप नहीं रहता है, लेकिन इस बार बुखार के मरीज काफी ज्यादा संख्या में आ रहे हैं। सामान्य रूप से वायरल का सीजन सर्दी और मौसम बदलने के दौरान रहता है। फिलहाल तेज गर्मी है, लेकिन फिर भी लोगों में बुखार फैल रहा है।

गर्मी में सर्द-गर्म की वजह से हीट स्ट्रोक की समस्या बनी रहती है। इसके लिए लोगों को तेज धूप में घर से बाहर निकलते समय पामी साथ रखने और सिर ढ़ककर रखना चाहिए। आमतौर पर कमरे से बाहर तेज धूप में आने से शरीर तापमान को संतुलित नहीं कर पाता। इससे लोगों को बुखार की समस्या से जूझना पड़ रहा है। - डॉ. आरके गुप्ता, जिला सर्विलांस अधिकारी, गाजियाबाद

ऐसे करें बचाव

- खान पान में बदलाव करें

- मौसमी फल और सब्जियों का सेवन करें

- तेज मसाले और फास्ट फूड से परहेज करें

- दिन में एक या दो बार शिकंजी या नारियल पानी जरूर पिएं

- बच्चों को ओआरएस जरूर दें

- तेज धूप से आने पर तुरंत मुंह न धोएं और नहाए नहीं

- एसी को 20 से 25 पर ही चलाएं और एसी से निकलकर तुरंत तेज धूप में न जाएं

- धूप में काफी देर रहने पर ज्यादा ठंडा पानी पीने से बचें

- ज्यादा देर तक खाली पेट न रहें, ठोस नहीं तो लिक्विड लेते रहें

- तेज धूप में सिर पर कपड़ा रखकर निकलें और पूरे कपड़े पहनें

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।