DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बुहरानी नाटक से मन को छुआ

गाजियाबाद। नेहरू नगर के गांधर्व संगीत महाविद्यालय में डॉ. विमला गुप्ता नाट्य मंच ने रविवार को ‘बुहरानी नाटक की प्रस्तुति दी। नाटक के जरिए कलाकारों ने भारतीय परिवारों और उनमें होने वाली घटनाओं का ऐसा ताना बाना बुना, जिसने मौजूद दर्शकों के मन को छू लिया।

नाटक में दिखाया गया कि कोई भी बहू केवल किसी बड़े घर से आ जाने से बड़ी नहीं हो जाती है। बल्कि वो तो बड़ी अपने संस्कारों और ससुराल के प्रति अपने समर्पण भाव से बनती है। दहेज प्रथा के खिलाफ आवाज उठाते हुए कलाकारों ने बताया कि ससुराल पक्ष को भी समझना चाहिए कि दहेज लेकर आने वाली बहू को ही लक्ष्मी समझना गलत है। जो घर को जोड़कर रखती है, वहीं घर लक्ष्मी है। मुख्य भूमिका में संदीप सिंघवाल, मृगांक शर्मा, प्रतीक्षा सक्सेना, शिवानी, एमएल अरोड़ा, प्रदीप, आरती श्रीवास्ताव, विपिन कसाना, संजय, भानू, देव आदि रहे। इस मौके पर डॉ. तारा गुप्ता, तरुण गोयल, सुशील गोयल का विशेष सहयोग रहा।

----------------

निशुल्क स्वास्थ्य शिविर लगाया

गाजियाबाद। कविनगर के लायंस अस्पताल में रोटरी गाजियाबाद निकुंज ने रविवार को निशुल्क स्वास्थ्य जांच शिविर का आयोजन किया। शिविर में 150 से अधिक लोगों ने अपने स्वास्थ्य की जांच कराई। इस दौरान मंडल निदेशक आलोक गर्ग ने कहा कि यादि मानव का शरीर व उसके सभी अंग स्वस्थ रहेंगे तो वह अपना सौ प्रतिशत योगदान शुभकार्यों में कर सकता है। इस मौके पर रोटरी गाजियाबाद निकुंज की अध्यक्ष राखी गर्ग, सचिव लीना अग्रवाल, अनीता शर्मा, निशा गर्ग, गुंजन शर्मा, दीपक गुप्ता आदि मौजूद रहे।

---

आश्रम के बच्चों को खाद्य सामाग्री दी

गाजियाबाद। रोटरी क्लब ऑफ गाजियाबाद ने रविवार को प्रेरणा परिवार बाल आश्रम में एक वॉशिंग मशीन देकर सहायता की है। क्लब के सदस्य अनाथ बच्चों के पालन-पोषण में मदद करने के लिए संलग्न रहते हैं। इस दौरान आश्रम के बच्चों को खाद्य सामाग्री वितरित की गई। बच्चों ने क्लब के सदस्यों का मनोरंजन करने के लिए नृत्य व चित्रकारी प्रतियोगिता का आयोजन किया। इसमें बच्चों ने एक से बढ़कर एक चित्रकारी कर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन दिया। इस मौके पर क्लब के सचिव सतीश चंद मित्तल सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बुहरानी नाटक से मन को छुआ