DA Image
31 अक्तूबर, 2020|4:19|IST

अगली स्टोरी

वैदिक संस्कृति से युवा बनेंगे संस्कारवान : मंगला

स्थानीय डीजी खान स्कूल में आर्य युवक परिषद् के सात दिवसीय युवा निर्माण संस्कार शिविर का समापन हुआ। समापन समारोह की अध्यक्षता प्रदीप सरदाना ने की। मुख्यमंत्री के राजनीतिक सचिव दीपक मंगला व केएल खुराना ने मुख्य अतिथि के रूप में भाग लिया।

इस अवसर पर दीपक मंगला ने कहा कि भारत और भारतीयता को बचाने में आर्य समाज और महर्षि दयानंद सरस्वती की महती भूमिका रही है। धार्मिक पाखंड और सामाजिक अन्याय को मिटाने के लिए वर्तमान में भी आर्य समाज का संघर्ष जारी है। महर्षि दयानंद द्वारा लिखित सत्यार्थ प्रकाश सूर्य की भांति अंधकार को दूर करने का काम कर रहा है। अनेक समाज सुधारकों व क्रांतिकारियों ने सत्यार्थ प्रकाश को पढ़ा और उन्होंने धर्मप्रचार व देश सुधार के काम में सहयोग दिया। केएल खुराना के कहा कि युवाओं के निर्माण में आर्य युवक परिषद् की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। स्वस्थ मानसिक सोच के युवा ही राष्ट्र निर्माण में निर्णायक भूमिका निभा सकते हैं। उन्होंने बताया कि देश, धर्म और जाति को अगर बचाना है तो वैदिक संस्कृति को अपनाना होगा। वैदिक संस्कृति विश्व की सबसे प्राचीन संस्कृति है। वेदानुकूल जीवन शैली को अपनाने से ही विश्वशांति हो सकती है। वेद एक ईश्वर की उपासना करने का संदेश है। इस अवसर पर आर्य नेता ठाकुर विक्रम सिंह का आर्य युवक परिषद् की ओर से सार्वजनिक अभिनंदन किया गया। समापन समारोह को धर्मप्रकाश आर्य, मोहित शर्मा, वीकेआर्य, जयप्रकाश आर्य, बुधराम तेवतिया, बच्चू सिंह तंवर, राजपाल दहिया, गुरमेश, संगीताआर्या, सुखदेव आर्य आदि ने संबोधित किया। इस अवसर पर हर्षदेव आर्य, मोतीलाल गुप्ता, नारायणसिंह आर्य, चंदरलाल, धर्मवीर आर्य, शिव सिंह आर्य, राजवीर आर्य, हेतराम गर्ग, नेतराम शास्त्री, चंद्रपाल आर्य, राजदेव नैष्ठिक, ठाकुर सत्यवीर सिंह, ललित मित्तल आदि मौजूद थे। तुलारामआर्य ने मंच संचालन किया।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: Vedic culture will become a young man: Mangala