DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बीपीएल परिवारों के घर से चाय की मिठास गायब

बीपीएल परिवारों के घर से मिठास अब गायब हो गई है। राशन डिपो से अब बीपीएल कार्ड धारकों को सस्ते में दी जाने वाली चीनी बंद कर दी गई है। मिट्टी का तेल पहले से ही बंद है। दो महीने से प्रदेश में यह स्थिति बनी है। इससे बीपीएल परिवार मायूस है। उनका कहना है कि मिट्टी का तेल बंद करना उतना कष्टदायक नहीं, जितना चीनी बंद करना। सरकार के इस कदम से बीपीएल परिवार बेहद चिंतित है। केंद्र सरकार की ओर से बीपीएल और अंत्योदय अन्न योजना के तहत कार्ड धारकों के लिए सस्ते दाम पर प्रति राशन कार्ड दो किलो चीनी मुहैया करवाई जाती है। मार्च महीने तक यह चीनी राज्य सरकारों को मुहैया करवाई गई। यह चीनी मात्र साढ़े 13 रुपये प्रति किलोग्राम की दर से दी जाती थी, जबकि बाजार रेट इससे कई गुणा अधिक रहते हैं। लेकिन अप्रैल से राशन कार्ड धारकों के लिए चीनी की आवक बंद हो गई है। इससे गरीबों के घरों से मिठास गायब होने लगी है। इससे बीपीएल परिवार खासे चिंतित हैं। ---------------- एक अप्रैल से कैरोसिन तेल बंद उज्जवला योजना के तहत बीपीएल कार्ड धारकों को विशेष छूट के साथ गैस कनेक्शन मुहैया करवाया जा रहा है। इसके चलते राशन डिपो से बीपीएल कार्ड धारकों को सस्ते रेट पर दिए जाने वाला कैरोसिन तेल बंद कर दिया गया है। ------------ राशन से मिल रहा है गरीबों को केवल गेहूं व दाल चीनी और कैरोसिन तेल की आवक बंद किए जाने के बाद अब बीपीएल परिवारों को केवल राशन कार्ड से गेहूं और दाल ही मुहैया करवाई जा रही है। राशन कार्ड से 20 रुपये प्रति किलोग्राम के हिसाब से दाल मुहैया करवाई जा रही है। एक कार्ड पर ढाई किलो दाल दी जाती है, जबकि बीपीएल कार्ड धारकों को एक यूनिट पर 5 किलोग्राम गेहूं और अंत्योदय अन्न योजना के तहत एक कार्ड धारक को 35 किलोग्राम गेहूं सस्ते में मुहैया करवाया जाता है। जिला खाद्य एवं आपूर्ति निरीक्षक सम्पत राम ने बताया कि अप्रैल महीने से चीनी की आवक बंद हो गई है। बीपीएल परिवारों को केंद्र सरकार की उज्जवला योजना के तहत गैस कनेक्शन मुहैया करवाया जा रहा है, इसके चलते राशन कार्ड से कैरोसिन तेल देना बंद कर दिया गया है। ------------- पलवल के जिला खाद्य एवं आपूर्ति नियंत्रक योगेंद्र सिंह: केंद्र सरकार की ओर से बीपीएल कार्ड धारकों को दी जाने वाली चीनी की आवक अप्रैल से बंद है। दो महीने से बीपीएल परिवारों को चीनी नहीं दी जा सकी है। बीपीएल परिवारों को दी जाने वाली चीनी बंद है या नहीं, इस बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं है। --------------- फरीदाबाद में बीपीएल कार्ड धारकों की संख्या : 54 हजार अंत्योदय अन्न योजना के तहत कार्ड धारक : 6 हजार

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: The sweetness of tea from the BPL families is missing