DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   NCR  ›  फरीदाबाद  ›  मकान टूटने के खौफ से छात्रों को पढ़ाई की चिंता

फरीदाबादमकान टूटने के खौफ से छात्रों को पढ़ाई की चिंता

हिन्दुस्तान टीम,फरीदाबादPublished By: Newswrap
Fri, 11 Jun 2021 11:50 PM
मकान टूटने के खौफ से छात्रों को पढ़ाई की चिंता

खोरी की पिंकी ने शुक्रवार को आए हरियाणा शिक्षा बोर्ड के वार्षिक परीक्षा परिणाम में दसवीं की कक्षा अच्छे अंकों से पास की है। मगर पिछले चार दिनों से मकान टूटने के खौफ में रह रही पिंकी के लिए परीक्षा पास करने की खुशी फीकी पड गई। पिंकी का कहना है कि उनको अब यह चिंता सताने लगी है कि अगर सरकार ने उनका मकान तोड दिया तो फिर आगे वे ग्याहरवीं कक्षा में प्रवेश ले पाएंगी भी या नहीं, अगर ले पाएंगी तो फिर किस जगह किस स्कूल में उनको तालीम हासिल करने का अवसर मिलेगा। यहां बचपन के दोस्तों से बिछुडने की चिंता भी उन्हें सता रही है। दरअसल, यह अकेली पिंकी की चिंता नहीं है, यहां ऐसे दस हजार से ज्याद बच्चों के सामने यह असमंजस है। स्कूल से लेकर हाई एजुकेशन हासिल कर अपना करियर बनाने की हसरत पाले ऐसे छात्रों के सामने अचानक नई समस्या आ गई है।

एक सरकारी और कई निजी स्कूल

खोरी में बच्चों को तालीम देने के लिए एक सरकारी स्कूल है और कई निजी स्कूल हैं। इनके अलावा यहां के बच्चे हरियाणा और दिल्ली सरकार के अलग-अलग सरकारी स्कूलों में पढ रहे हैं। स्कूल की तालीम लेने के बाद दिल्ली और फरीदाबाद के कॉलेजों में भी दाखिला लिया हुआ है। बीबीए कर रहे रिजवान ने बताया कि यहां घर टूटने के बाद वे कहां जाएंगे यह अभी तक समझ नहीं आया है। अभिभावक भी चिंता में हैं। उन्होंने कहा कि यहां दस हजार नहीं बल्कि इससे काफी ज्यादा मकान हैं और आबादी भी एक लाख से ज्यादा है। उन्होंने चिंता जाहिर करते हुए कहा कि छह सप्ताह बाद वे कहां होगे यह तो नहीं मालूम लेकिन फिलहाल उनको किराये पर मकान भी कोई नहीं दे रहा है। सभी कोविड की वजह से बच रहे हैं।

संबंधित खबरें