DA Image
1 अप्रैल, 2020|6:33|IST

अगली स्टोरी

मरीजों को अस्पताल लाने के लिए 24 घंटे दे रहे सेवाएं

default image

पेज तीन के लिए एंकर ...........कोराना के योद्धामरीजों को अस्पताल लाने के लिए 24 घंटे दे रहे सेवाएं-स्वास्थ्य विभाग में एंबुलेंस सेवा के इंचार्ज हैं हरकेश-रोजाना 100 से 120 फोन आ रहे जिले से मरीजों केबगैर आराम लगातार मदद को जुटी रहती है टीमफरीदाबाद। कार्यालय संवाददातासुबह के पांच बजे हों या फिर रात के एक किसी भी समय शहर के किसी भी कोने से फोन आने पर तुरंत हरकत में आना होता है। इस समय तो हफ्ते के सातों दिन बगैर आराम किए काम में जुटे हैं। ये कहना है जिले में एंबुलेस सेवा से जुड़े कॉल सेंटर के इंचार्ज हरकेश का। कोरोना के संदिग्धों को अस्पताल तक लाने के  लिए इस समय विभाग की टीम से 86 लोगों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं। हरकेश बताते हैं कि दिन हो या रात  शहर के किसी भी इलाके से किसी मरीज का फोन आता है तो तुरंत काम करते हुए एंबुलेस को रवाना किया जाता है। अस्पताल की एंबुलेंस सेवा  वैसे भी 24 घंटे लोगों के लिए चालू रहती है लेकिन इस समय सामान्य एंबुलेंस के साथ ही कोरोना संदिग्धों और पीड़ितों के लिए दो विशेष एंबुलेंस की तैनाती की गई है। इसपर खास फोकस रखना होता है। सुबह से रात तक आते हैं फोनहरकेश बताते हैं कि आमतौर पर एंबुलेंस सेवा से जुड़ा काम आपात स्थिति से संबंधित है इसलिए इस पर फोन आने वालों के लिए कोई समय सीमा नहीं होती। लेकिन इस समय को लेकर लोगों में दहशत है इसलिए सुबह से रात तक फोन बजते रहते हैं।  ऐसे में पूरी टीम को 24 घंटे बगैर आराम किए पूरी तत्परता के साथ जिम्मेदारी निभानी होती है। हरकेश बताते हैं कि टीम में चार फोन ऑपरेटर, 38 टेक्निशियन और 38 ड्राइवर शामिल हैं। रेफरल ट्रांसफर सिस्टम (आरटीएस) के नाम से जाने जाने वाले इस विभाग में लोग 102 और 108 हेल्पलाइन के जरिए संपर्क करते हैं। इसके आलावा कोरोना के लिए विशेष एंबुलेंस हेल्पलाइन 9654584102 भी जारी किया गया है। हर नंबर पर आने वाले कॉल पर उन्हें रिस्पांस देना होता है।100 से 120 फोन आ रहे दिन भर मेंहरकेश बताते हैं कि मरीजों को अस्पताल तक पहुंचाने के लिए कुल 18 गाड़ियों पर 24 घंटे मदद ले सकते हैं। आमतौर पर इन नंबरों पर मरीजों के 60 से 80 फोन आते हैं , जो कि इस समय बढ़कर 100 से 120 की संख्या हो चुकी है। हर फोन पर एक्शन तुरंत लेना होता है । वहीं सीधे आने वाले फोन के अालावा पुलिस और प्रशासन की तरफ से भी किसी मरीज की सूचना मिलने पर तुरंत काम करना होता है।हर फोन पर तुरंत तत्परता दिखाते हुए तुरंत इसकी सूचना मेडिकल टीम को देनी होती है इसके बाद मौके पर मेडिकल टीम को रवाना करने से लेकर वापसी तक उनके संपर्क में रहना होता है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Services provided 24 hours to bring patients to hospital