DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुरक्षा के लिए कांवड़यात्रा की पुलिस वीडियोग्राफी करवाएगी

कांवड़ शिविर कालिंदी कुंज सड़क पर आगरा नहर किनारे बनाए जाएंगे। इसलिए कांवड़ियों को आगरा नहर किनारे ही चलाया जाएगा। वहीं वैकल्पिक तौर पर हाईवे पर भी कांवड़ियों को चलाने के लिए सुरक्षा व्यवस्था के लिए पुलिस तैयार रहेगी। पुलिस इसके लिए अलग से एक लेन भी बना सकती है। सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनजर पुलिस कांवड़ यात्रा की वीडियोग्राफी भी करवाएगी।

जल्द ही पुलिस और प्रशासन के अधिकारी कांवड़ यात्रा को लेकर बैठक भी करेंगे। वहीं सोमवार को एसीपी ट्रैफिक देवेंद्र यादव कांवड़ रूट का जायजा लेंगे।

कांवड़ लाने के लिए कांवड़ियों ने हरिद्वार और गोमुख के लिए जाना शुरू कर दिया है। वहीं कुछ कांवड़िए जा भी चुके हैं। जबकि कांवड़िए डाक कांवड़ के लिए जलाभिषेक से दो या तीन दिन पहले हरिद्वार या गोमुख जाएंगे। जलाभिषेक नौ अगस्त को होगा।

चौराहों पर फायर ब्रिगेड और एंबुलेंस की तैनाती होगी:

कांवड़ यात्रा के दौरान पुलिस वाहनों की रफ्तार पर नजर रखेगी। ताकि कांवड़ियों के साथ कोई हादसा न हो सके। इसके लिए पुलिस बेरिकेड भी लगाएंगे। कांवड़ियों की सुरक्षा के मद्देनजर पुलिस वीडियो कैमरों से फुटेज भी तैयार करेगी। पुलिस सभी प्रमुख चौराहों पर फायर ब्रिगेड, एंबुलेंस भी तैनात करेगी। प्रत्येक कांवड़ शिविर पर पुलिसकर्मियों की तैनाती की जाएगी। पुलिस सुबह आठ बजे से लेकर रात 12 बजे तक गश्त करेगी। पार्किंग स्थलों को कांवड़ शिविरों से दूर बनाया जाएगा। वहीं हाईवे पर एक भी कांवड़ शिविर नहीं लगने दिया जाएगा। शिवरात्रि से एक-दो दिन पहले कालिंदी कुंज सड़क को वन-वे भी किया जा सकता है।

--------------------------------

हर दो किलोमीटर पर रहेगा कांवड़ शिविर: पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी प्रत्येक दो किलोमीटर पर कांवड़ शिविर की अनुमति देने पर विचार कर रहे हैं। शिविर में आग बुझाने के यंत्र और रोशनी का इंतजाम करवाया जाएगा। शिविर में अपराधियों पर निगरानी के लिए पुलिसकर्मी कांवड़ियों की वेशभूषा पहनकर रहेंगे। वहीं वर्दीधारी महिला और पुरूष पुलिसकर्मियों की ड्यूटी लगाई जाएगी। शिविरों पर अस्पतालों के नंबर भी लिखवाए जाएंगे। वहीं शिविरों के आस-पास फायर ब्रिगेड और एंबुलेंस की गाड़ियां भी रहेंगी। शिविरों में स्वच्छता, शौचालय, पानी, जेनरेटर सेट व्यवस्था, भोजन, प्राथमिक चिकित्सा, सुरक्षा का ध्यान रखा जाएगा। वहीं शौच करने की बेहतर व्यवस्था होगी। खुले में शौच के लिए मजबूर न होना पड़े। कांवड़ शिविर के प्रशासन की अनुमति भी लेनी होगी।

प्रत्येक जोन में एक एसीपी रहेगा प्रभारी :

पूरे जिले को जोन में बांट दिया जाएगा। प्रत्येक जोन की निगरानी की जिम्मेदारी एक एसीपी को दी जाएगी। वहीं प्रत्येक जोन में ड्यूटी मजिस्ट्रेट लगवाए जाएंगे। सीमावर्ती राज्यों की पुलिस के साथ व्हाट्सएप के जरिए सूचना आदान-प्रदान की जाएंगी।

इन बातों पर ध्यान दें कांवड़िए :

-डाक कांवड़ लाने के दौरान कांवड़िए खुद की सुरक्षा के मद्देनजर वाहन की छत पर चढ़कर डांस न करें। वहीं तेज आवाज में डीजे चलाने से बचें।

-कांवड़ लाने के लिए छोटे बच्चों को साथ लेकर न जाएं

-कांवड़ पर जाने के दौरान गले में अपना पहचान पत्र लटकाकर रखें। उसमें मोबाइल नंबर भी लिखा हो

-कांवड़िए अपने साथ हथियार, डंडे, क्रिकेट -बेसबॉल बैट न रखें

-शिविरों या रास्ते में नशीले पदार्थ बेचने वाले लोगों की सूचना पुलिस को दें

------------

शहर में कांवड़ियों के प्रमुख रूट--

हाईवे -

कालिंदीकुंज से आगरा नहर के साथ-साथ

बाई पास सड़क-

फरीदाबाद-गुरुग्राम सड़क -

बल्लभगढ़-सोहना सड़क -

--

‘कांवड़ियों की सुरक्षा व्यवस्था पर पूरा ध्यान दिया जा रहा है। सोमवार को वे कांवड़ रूट देखने भी जाएंगे। कांवड़ यात्रा के दौरान सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम होंगे

देवेंद्र यादव, एसीपी ट्रैफिक

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Police will conduct videography of Kaonvad yatra for security