Plan will be reviewed - पढ़ाई को आसान बनाने के तरीके की योजना की होगी समीक्षा DA Image
16 दिसंबर, 2019|5:20|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पढ़ाई को आसान बनाने के तरीके की योजना की होगी समीक्षा

नए सत्र से पहले स्कूलों में लर्निंग इनहांसमेंट प्रोग्राम (पढ़ाई को आसान बनाने के तरीके बताने की योजना) की गुणवत्ता सुधारने के लिए समीक्षा की जाएगी। जनवरी के महीने में योजना लागू करने के लिए नियुक्त किए गए मेंटर स्कूलों का निरीक्षण कर इस बाबत रिपोर्ट तैयार करेंगे। इसके बाद इस रिपोर्ट के आधार पर स्कूलों में एलईपी में संभावित सुधार के लिए जरूरी कदम उठाए जाएंगे। इस बाबत राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद् (एससीईआरटी) की ओर से निर्देश जारी कर दिए गए हैं।

गौरतलब है कि पिछले सत्र में शिक्षा विभाग की ओर से प्राथमिक शिक्षा में बेहतरी के लिए लर्निंग इन्हांसमेंट प्रोग्राम शुरू किया गया था। छोटे बच्चों के लिए पढ़ाई को सरल और व्यवहारिक बनाना ही इस योजना का उद्देश्य था। पहली से पांचवी कक्षा तक के बच्चों को खेल-खेल मंे पढ़ाना और उनके मन से पढ़ाई का डर निकालना इस योजना का उद्देश्य था। इसके लिए बकायदा प्राथमिक शिक्षकों को विशेष प्रशिक्षण भी दिया गया था।

महीने में दस स्कूलों का करना होगा निरीक्षण

एससीईआरटी की ओर से दिए गए आदेशों के अनुसार मेंटरों को स्कूलों में जाकर एलईपी के तहत होने वाली गतिविधियों और इसकी सफलता का जायजा लेना होगा। आदेशानुसार 25 जनवरी से पहले मेंटरों को कम से कम दस स्कूलों का निरीक्षण करना होगा। इसके बाद रिपोर्ट विभाग को देनी होगी।

इसी महीने होगी योजना को लेकर वर्कशॉप

एससीईआरटी की ओर से एलईपी को लेकर एक दिवसीय वर्कशॉप का आयोजन किया जाएगा। इसमें स्कूलों में एलईपी लागू कराने में आ रही दिक्कतों को लेकर अधिकारियों संग चर्चा की जाएगी। नए सत्र की शुरुआत से पहले एलईपी को बेहतर तरीके से प्रदेश के स्कूलों में लागू करने के लिए इस वर्कशॉप का आयोजन किया जाएगा।

72 स्कूलों से हुई थी योजना की शुरुआत

वर्ष 2015 में प्रदेशभर में कुल तीन हजार से ज्यादा स्कूलों में इस योजना की शुरुआत हुई थी। वहीं फरीदाबाद जिले में कुल 72 स्कूलों में इसे लागू किया गया था। इसके लिए बकायदा चुनिंदा स्कूलों के शिक्षकों को विशेष प्रशिक्षण भी दिया गया था। इसमें इनमें बल्लभगढ़ के कुल 40 और फरीदाबाद के 32 शिक्षक शामिल हैं। उधर, पलवल के 153 शिक्षकों को प्रशिक्षण मिला था। इसके बाद पिछले साल इसे सभी स्कूलों में लागू किया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Plan will be reviewed