ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCR फरीदाबादस्मार्ट सिटी में पारा 46 डिग्री पहुंचने से लोग दिनभर बेहाल

स्मार्ट सिटी में पारा 46 डिग्री पहुंचने से लोग दिनभर बेहाल

फरीदाबाद। गर्मी का प्रकोप जिलेवासियों को परेशान किए हुए है। तेज झुलसाने वाली धूप और लू ने जिलेवासियों के चेहरों को मुरझा दिया...

स्मार्ट सिटी में पारा 46 डिग्री पहुंचने से लोग दिनभर बेहाल
default image
हिन्दुस्तान टीम,फरीदाबादTue, 18 Jun 2024 12:00 AM
ऐप पर पढ़ें

फरीदाबाद। गर्मी का प्रकोप जिलेवासियों को परेशान किए हुए है। तेज झुलसाने वाली धूप और लू ने जिलेवासियों के चेहरों को मुरझा दिया है। सुबह सात बजे से ही चटक धूप और लू लोगों की परेशानियां बढ़ाना शुरू कर दी है। इस गर्मी का दुष्प्रभाव मानव, जीव-जंतुओं के अलावा पेड़ पौधों पर भी पड़ रहा है। हरे-भरे रहने वाले पेड़-पौधे धूप और लू की वजह से सूखने लगे हैं। सोमवार को अधिकतम तापमान 46 डिग्री, जबकि न्यूनतम 35 डिग्री दर्ज किया है। न्यूनतम तापमान बढ़ने से दिन ढलने के बाद भी गर्मी के प्रभाव को बनाए रखता है।
गर्मी में अब लोगों के बर्दाश्त के बाहर होती जा रही है। सुबह सोकर उठने के साथ ही पसीने बहाना शुरू हो जाते हैं। इस गर्मी में कूलर और पंखे पूरी तरह फेल हो गए हैं। एसी के सामने ही पसीने सूख रहे हैं। तेज गर्मी का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि दोपहर में सड़कों पर कार चालक ही दिखाई देते हैं, जबकि मोटरसाइकिल चालक एवं पैदल चलने वाले इक्का दुक्का लोग ही होते हैं। लोग अब आकाश की तरफ उम्मीद भरी निगाहों से देख रहे हैं। जिलेवासियों को अब केवल बारिश ही गर्मी से कुछ हद तक राहत दिला सकती है।

पेड़-पौधे मुरझाए

इस गर्मी से मानव जीवन के अलावा पेड़-पौधे भी प्रभावित है। चिलचिलाती धूप और लू की वजह से सड़कों के किनारे लगे पेड़-पौधे स्वत: ही सूखते जा रहे हैं। वन अधिकारी सुनील कुमार के अनुसार इन दिनों पेड़-पौधों को पर्याप्त मात्रा में पानी नहीं मिल पा रहा है। इसके अलावा लू की चपेट में आने से झुलस रहे हैं।

रात में भी हो रही गर्मी

जिले में 14 जून से न्यूनतम तापमान 30 डिग्री से अधिक हो रही है। उसका परिणाम है कि सूरज के ढलने के बाद भी तेज गर्मी जिलेवासियों को परेशान कर रही है। पसीने थमने का नाम नहीं लेते हैं। वहीं गर्म हवा जिले के ताप को और अधिक कर देते हैं।

बीमार कर रही

बढ़ता तापमान में जिलेवासियों को बीमार कर रहा है। डायरिया, डिाहाईड्रेशन, जल जनित बीमारियों के रोगियों की संख्या में लगातार बढ़ रही है। इसके अलावा गर्मी की वजह से हृदय, रक्तचाप, अस्थमा, मस्तिष्क से संबंधी बीमारियों के रोगियो की परेशानी बढ़ जाती है।बीके अस्पताल के डॉ. योगेश गुप्ता ने बताया कि दोपहर के समय धूप में निकलने से बचे। यह हानिकारक साबित हो सकती है। इसके अलावा सिर को ढककर निकले और अपने साथ पानी अवश्य लेकर चले। यदि संभव हो तो दो पहिया वाहन चलाने से परहेज करें।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।