DA Image
30 अक्तूबर, 2020|6:02|IST

अगली स्टोरी

डीएल बनाने के लिए ओटोमेटिड ड्राइविंग टेस्ट ट्रैक खुलेगा

डीएल बनाने के लिए ओटोमेटिड ड्राइविंग टेस्ट ट्रैक खुलेगा

फरीदाबाद। मुख्य संवाददाता

ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने वालों के लिए जिले में ओटोमेटिड ड्राइविंग टेस्ट ट्रैक लगाए जाएंगे। वहां कंप्यूटरीकृत मशीनों के जरिये ड्राईिवंग स्किल्स का टेस्ट लिया जाएगा। लाइसेंस बनवाने वालों को किसी दलाल के पास जाने की जरूरत नहीं होगी। फरीदाबाद सहित ऐसे सेंटर प्रदेश के11 जिलों में खोले जाएंगे। इनको एक साल के अंदर-अंदर खोल दिया जाएगा। इन पर कुल 30 करोड़ रुपये खर्च होंगे। शनिवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने यह जानकारी दी।

इन जिलों में खोले जाएंगे केंद्र : फरीदाबाद, पलवल, नूंह, कैथल, झज्जर के बहादुरगढ़, रोहतक, भिवानी, करनाल, रेवाड़ी, सोनीपत और यमुनानगर में यह केंद्र खोले जाएंगे। मुख्यमंत्री ने ओटोमेटिड ड्राइविंग टेस्ट ट्रैक के अलावा फरीदाबाद में माल ढोने वाले वाहनों की फिटनेस करने के लिए केंद्र खोलने की दूसरी सौगात भी दी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि तहसील कार्यालयों में बिचौलियों से मुक्ति दिलाने के बाद अब आम जनता को आरटीए कार्यालयों में भी बिचौलियों से छुटकारा मिलेगा। उन्होंने कहा कि माल ढोने वाले वाहनों की फिटनैस की जांच करने के लिए रोहतक के बाद छह और स्थानों अंबाला, करनाल, हिसार, गुरुग्राम, फरीदाबाद एवं रेवाड़ी में वाहनों के इन्सपैक्शन एवं सर्टिफिकेशन केंद्र खोले जाएंगे।

आरटीए की जगह अब डीटीओ होंगे नियुक्त :

मुख्यमंत्री ने हरियाणा में आरटीए सचिव के स्थान पर अलग से जिला परिवहन अधिकारी (डीटीओ) नियुक्त करने की घोषणा की है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जिला परिषदों के मुख्य कार्यकारी अधिकारी के रूप में अलग से एचसीएस अधिकारी लगाने के बाद सरकार की यह दूसरी पहल है कि आरटीए के स्थान पर डीटीओ लगाए जाएंगे। इनकी नियुक्ति 2 दिनों के अंदर-अंदर कर दी जाएगी। अब सभी 22 जिलों में आरटीए की बजाय डीटीओ होंगे।

पोर्टलेबल धर्मकांटे लगाए जाएंगे :

मुख्यमंत्री ने बताया कि सड़कों पर पोर्टलेबल धर्मकांटे लगाए जाएंगे। इससे वाहन चालक को भी पता नहीं लगेगा कि कब उसके वाहन के वजन का तौल हो चुका है। उन्होंने कहा कि इसके लिए 45 पोर्टलेबल धर्मकांटे खरीद लिए गए हैं और इसकी सफलता के बाद पूरे प्रदेश में और भी पोर्टलेबल धर्मकांटे लगाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि आगे से वाणिज्यिक वाहनों की चैकिंग व पासिंग करने वाले वाहन निरीक्षक पर बॉडी कैमरे लगाए जाएंगे, जिससे सारी कार्रवाई रिकॉर्ड की जाएगी और इसकी मॉनिटरिंग मुख्यालय पर की जाएगी।

क्लास-1 अधिकारी की होगी प्रतिनियुक्ति

मुख्यमंत्री ने कहा कि डीटीओ के पद पर जरूरी नहीं कि आईएएस या एचसीएस अधिकारी लगाए जाएं, बल्कि इसके लिए अब भविष्य में आईपीएस, एचपीएस या किसी अन्य विभाग के क्लास-1 अधिकारी को भी प्रतिनियुक्ति पर लिया जा सकेगा । उन्होंने कहा कि उनका मुख्य उद्देश्य भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाना है। मुख्यमंत्री ने इस बात के संकेत दिए कि आरटीए के बाद किसी और विभाग का भी चयन करेंगे जहां पर भ्रष्टाचार की अधिक संभावना है और उस पर भी अंकुश लगाया जाएगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Otomatid driving test track will open to make DL