ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCR फरीदाबादबजट से उम्मीद : फरीदाबाद-पलवल में से किसी एक जिले में केंद्रीय विश्वविद्यालय चाहते हैं युवा

बजट से उम्मीद : फरीदाबाद-पलवल में से किसी एक जिले में केंद्रीय विश्वविद्यालय चाहते हैं युवा

फरीदाबाद। फरीदाबाद और पलवल में मिलाकर करीब 30 लाख की आबादी रहती हैं। यहां के

बजट से उम्मीद : फरीदाबाद-पलवल में से किसी एक जिले में केंद्रीय विश्वविद्यालय चाहते हैं युवा
default image
हिन्दुस्तान टीम,फरीदाबादSun, 16 Jan 2022 03:00 AM
ऐप पर पढ़ें

फरीदाबाद। फरीदाबाद और पलवल में मिलाकर करीब 30 लाख की आबादी रहती हैं। यहां के विद्यार्थियों को उच्च शिक्षा के लिए दिल्ली और हरियाणा के दूसरे जिलों में जाना पड़ता है। यहां के युवा फरीदाबाद और पलवल जिले में से किसी एक स्थान पर केंद्रीय विश्वविद्यालय बनाने की मांग कर रहे हैं, ताकि यहीं पर रहकर उच्च स्तरीय शिक्षा हासिल कर सकें।

सन् 2008 तक पलवल फरीदाबाद जिले में शामिल था। 15 अगस्त सन् 2008 को यह अलग जिला बन गया था। जिला बनने से पहले वहां एक भी सरकारी महाविद्यालय नहीं था। इसी तरह फरीदाबाद में सन् 2009 में वाईएमसीए इंजीनियरिंग संस्थान को विश्वविद्यालय का दर्जा दिया गया। इसे डॉक्टर जेसी बोस विश्वविद्यालय के नाम से जाना जाता है। यहां तकनीकी शिक्षा दी जाती है। शहर में निजी-सरकारी मिलाकर में एक दर्जन से ज्यादा महाविद्यालय हैं। यहां दो प्राइवेट विश्वविद्यालय हैं। वहीं पलवल में भी एक प्राइवेट विश्वविद्यालय है। इसके अलावा पलवल के दुधौला गांव में कौशल विश्वविद्यालय है।

स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद यहां के विद्यार्थियों के सामने अच्छे महाविद्यालय में दाखिले पाने का संकट खड़ा हो जाता है। दाखिले के लिए यहां के विद्यार्थी दिल्ली विश्वविद्यालय में दाखिले के लिए दौड़ लगाते हैं। परंतु, वहां आसानी से दाखिला नहीं मिलता है। इसी तरह उच्च शिक्षा के लिए भी विद्यार्थियों को रोहतक, कुरुक्षेत्र और कई बार चंडीगढ़ तक भी जाना पड़ता है। यहां के छात्र बड़ी संख्या में आगरा और मथुरा का भी रुख करते हैं। यहां के युवा चाहते हैं कि केंद्र सरकार को फरीदाबाद और पलवल जिले में से किसी एक जिले में केंद्रीय विश्वविद्यालय बनाने की घोषणा करनी चाहिए। इसकी घोषणा इसी बजट में हो, ताकि यहां के युवाओं को गुणवत्ता पूर्ण उच्च शिक्षा हासिल हो सके।

क्या कहते हैं युवा

‛फरीदाबाद-पलवल में सरकार को शिक्षा के क्षेत्र में काम करने की जरूरत है। इसके लिए यहां एक केंद्रीय विश्वविद्यालय की जरूरत है। सरकार को बजट में इसकी घोषणा करनी चाहिए। फरीदाबाद-पलवल में से किसी जिले में विश्वविद्यालय बनना चाहिए।

- प्रियंका गौड़, ताराका गांव (पलवल)

यहां विश्वविद्यालय बनाने की कई बार मांग उठाई जा चुकी है। यहां केंद्रीय विश्वविद्यालय बनाया जाना चाहिए। यहां विश्वविद्यालय न होने के कारण पंजाब से पीएचडी करनी पड़ रही है। उच्च शिक्षा के लिए बाहर जाने वालों की बड़ी संख्या है।

- अनिल चेची, प्रधान, आपका अपना छात्र संगठन

काफी संख्या में विद्यार्थी स्नातक और स्नातकोत्तर करने के लिए दिल्ली का रुख करते हैं। यहां स्तरीय शिक्षण संस्थान की जरूरत है। सरकार को बजट में केंद्रीय विश्वविद्यालय की घोषणा करनी चाहिए। तभी यहां के युवाओं को बेहतर शिक्षा मिलेगी।

- नेहा, वजीरपुर (ग्रेटर फरीदाबाद)

काफी संख्या में लड़कियां मेधावी होने के बावजूद दूर जाने की वजह से उच्चशिक्षा ग्रहण नहीं कर पाती हैं। प्रदेश के कम जनसंख्या वाले जिलों में विश्वविद्यालय हैं। यहां के युवाओं के विकास के लिए हर हाल में एक केंद्रीय विश्वविद्यालय बनना चाहिए।

- कृष्ण अत्री, छात्र नेता

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।