DA Image
23 अप्रैल, 2021|8:47|IST

अगली स्टोरी

संपत्ति नुकसान भरपाई कानून की प्रतियां जलाई

default image

पलवल। कृषि कानूनों को रद्द करवाने की मांग को लेकर दिल्ली-आगरा नेशनल हाईवे पर अटोंहा के पास धरने पर बैठे किसानों ने गुरुवार को अहिंक दिवस मनाया। किसानों ने इस दौरान हरियाणा संपत्ति नुकसान भरपाई कानून की प्रतियां जलाई और इसे रद्द करने की मांग की। किसानों ने शाम करीब चार बजे प्रतियां को जलाया। कार्यक्रम की अध्यक्षता नंदराम शर्मा ने की, जबकि मंच संचालन रुप राम तेवतिया ने किया।

----------------

नए कानून से विरोध के अधिकार से होंगे लोग महरूम

किसान नेता महेंद्र चौहान, राजेंद्र, हरप्रसाद, अच्छेलाल, धर्मचंद, किशन चंद, राजकुमार, भागीरथ, जगदीश, रोशन रावत आदि ने आंदोलन के दौरान सरकारी या गैर सरकारी संपत्ति के नुकसान की भरपाई के लिए केंद्र सरकार द्वारा बनाए गए कानून की तुलना किसानों ने रोलर एक्ट से की। उन्होंने कहा कि सरकार ऐसे कानून लाकर लोकतंत्र को कमजोर कर रही है और नागरिकों से उनके विरोध करने के अधिकारी को छीन रही है। खेती कानून, श्रम कानून और प्रदर्शन के दौरान कसी प्रकार के विरोध के दौरान हुए संपित्त के नुकसान की भरपाई वाला कानून इसकी तस्दीक करते हैं।

नेशनल हाईवे पर हुए किसान एकत्रित

हरियाणा संपत्ति नुकसान भरपाई कानून की प्रतियां जलाने के लिए किसान करीब तीन बजे धरना स्थल पर एकत्रित हुए। इसके बाद वहां से टेंट छोड़कर किसान दिल्ली-आगरा नेशनल हाईवे पर पहुंचे। जहां उन्होंने हरियाणा संपत्ति नुकसान भरपाई कानून की प्रतियां जलाना शुरू कर दिया। हालांकि किसानों ने अपना विरोध प्रदर्शन हाईवे के किनारे किया, इससे ट्रैफिक पर कोई असर नहीं पड़ा। थोड़ी देर बाद किसान वापस धरना स्थल पर लौट आए। किसानों ने अपना यह विरोध शांतिपूर्वक किया।

--------------------------

केजीपी जाम करने को लेकर चर्चा कर रहे किसान

संयुक्त किसान मोर्चा से आह्वान पर किसान दस अप्रैल को कुंडली-गाजियाबाद-पलवल (केजीपी) एक्सप्रेस वे को जाम करने को लेकर चर्चा कर रहे हैं। हालांकि फैसला अभी नहीं लिया है। किसान अपनी रणनीति का खुलासा नहीं कर रहे हैं। गेहंू की कटाई में किसानों की व्यस्तता को लेकर किसान असमंजस में हैं। किसान नेता महेंद्र चौहान का कहना है कि केजीपी पर जाम को लेकर किसानों से चर्चा की जा रही है और उसके बाद ही फैसला किया जाएगा। उन्होंने बताया कि कृषि कानूनों के होने वाले नुकसान को लेकर किसानों को गांव-गांव जाकर जागरूक किया जा रहा है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Burning copies of property damage compensation law