ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ NCR फरीदाबादउपमुख्यमंत्री से गुहार के बाद किशोरी को भगाने वाले आरोपी को हिरासत में लिया

उपमुख्यमंत्री से गुहार के बाद किशोरी को भगाने वाले आरोपी को हिरासत में लिया

फरीदाबाद। डबुआ कॉलोनी में एक किशोरी के गुम होने के बाद उसके परिजनों ने...

उपमुख्यमंत्री से गुहार के बाद किशोरी को भगाने वाले आरोपी को हिरासत में लिया
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,फरीदाबादSun, 04 Dec 2022 11:30 PM
ऐप पर पढ़ें

फरीदाबाद। डबुआ कॉलोनी में एक किशोरी के गुम होने के बाद उसके परिजनों ने शनिवार को उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला के समझ इच्छा मृत्यु की अनुमति मांगी थी। पीड़ितों का आरोप था की उनकी नाबालिग बेटी को एक युवक भगाकर ले गया। उपमुख्यमंत्री के आदेश पर जांच में जुटी पुलिस रविवार को आरोपी युवक को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी है। हालांकि बताया जा रहा है कि युवक के खिलाफ किशोरी ने कोई बयान अभी तक नहीं दिया है। मामले की जांच डीसीपी एनआईटी द्वारा गठित एसआईटी कर रही है।

शनिवार को डबुआ निवासी एक महिला अपने पति को साथ लेकर दौलतराम धर्मशाला में उपमुख्यमंत्री से मिली थी। महिला ने उन्हें एक पत्र देकर इच्छा मृत्यु की अनुमति मांग थी। इसपर उप-मुख्यमंत्री ने सामने खड़े पुलिस अधिकारियों को दंपति की समस्या सुनकर समाधान करने के आदेश दिए। पीड़ित दंपति पुलिस को बताया कि उनकी 16 वर्षीय बेटी को पडोसी यवुक भगा कर ले गया है। 30 नवंबर को उनकी बेटी घर से कहीं चली गई। पीड़त दंपत्ति का आरोप है कि उनके पास रात को एक फोन आया, कॉल करने वाले युवक ने बताया कि तुम्हारी बेटी मेरे पास है। साथ ही पुलिस में शिकायत करने पर बेटी के नहीं मिलने की धमकी दी गई। इसके बाद दंपत्ति पुलिस से संपर्क किया। आरोप है कि पुलिस ने उनकी मदद नहीं की। 2 दिसंबर को उनकी बेटी व करीब सात- आठ लड़के ऑटो आए और उनपर हमला कर दिया। पीड़ित के अनुसार डबुआ थाने में तैनात महिला एसआई सुमन ने दंपति की शिकायत सुनने की बजाय उन्हें जेल में डालने की धमकी देकर कोरे कागज पर साइन करने को कहा और कई घंटे बिठाकर रखा। किसी तरह वह रात को अपने घर पंहुचे। मामले में संज्ञान लेते हुए डीसीपी एनआईटी नरेंद्र कादियान ने एसीपी विष्णु प्रसाद की अगुआई में महिला थाना एनआईटी प्रबंधक माया, डबुआ थाना प्रबंधक और सीडब्ल्यूसी टीम के साथ एक महिला एसआई सुमन लता की टीम बनाकर एसआईटी का गठन किया है। रविवार को किशोरी के मेजिस्ट्रेट के सामने 164 सीआरपीसी, लीगल एड और सीडब्ल्यूसी के बयान कराए गए हैं। किशोरी ने मेजिस्ट्रेट के सामने लड़के पर कोई आरोप नहीं लगाया है। लड़की की मां की शिकायत पर जतिन के खिलाप केस दर्ज कर लिया गया था। पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।