DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   NCR  ›  फरीदाबाद  ›  कोविड के बाद अतिरिक्त कर्मी लगाकर टोल प्लाजा को रखा जाएगा जाम मुक्त
फरीदाबाद

कोविड के बाद अतिरिक्त कर्मी लगाकर टोल प्लाजा को रखा जाएगा जाम मुक्त

हिन्दुस्तान टीम,फरीदाबादPublished By: Newswrap
Thu, 27 May 2021 11:40 PM
कोविड के बाद अतिरिक्त कर्मी लगाकर टोल प्लाजा को रखा जाएगा जाम मुक्त

फरीदाबाद। अगर आप नेशनल हाईवे से सफर करने का प्लान कर रहे हैं तो घर से निकलते वक्त अपनी गाड़ी के फास्टैग के बैलेंस को अवश्य जांच लें। सफर के दौरान कई टोल प्लाजा पड़ते हैं तो कृपया उसके मुताबिक अपना फास्टैग रिचार्ज करा लें। अन्यथा टोल कर्मचारी फास्टैग में बैलेंस कम होने पर आपके वाहन को तुरंत साइड में खड़ा करा देगा। जी हां, इस दिशा में टोल प्लाजा प्रबंधकों ने अपनी तैयारी शुरू कर दी है। कोविड के बाद अधिक स्टाफ की टोल प्लाजा पर तैनाती की जाएगी, जो टोल से गुजरते वक्त वाहन चालकों को जागरूक कर व्यवस्था संभालते नजर आएंगे।

टोल प्लाजा से गुजरते वक्त अब वाहन चालकों को 10 सेकेंड से ज्यादा समय का इंतजार नहीं करना पड़ेगा। दरअसल, भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) ने बुधवार को इस संबंध में दिशा निर्देश जारी किए हैं। इसके अनुसार 100 मीटर से अधिक जाम लगता है तो ऐसी सूरत में वाहन चालकों से टोल नहीं वसूला जाएगा। एनएचएआई के इस आदेश के बाद टोल कम्पनियां इसकी तैयारियों में जुट गई हैं। एनएचएआई के इस आदेश के बाद वाहन चालकों को टोल प्लाजा पर लगने वाले जाम से राहत मिल जाएगी, वहीं जाम लगने की दिशा में टोल की अदायगी भी नहीं करनी होगी। यह वाकई वाहन चालकों के लिए राहत भरी खबर है। कई बार बदरपुर व श्रीनगर पर टोल अदायगी के चलते लंबा समय लग जाता है, लेकिन अब एनएचएआई के आदेश के बाद टोल कम्पनियां इस दिशा में व्यवस्था सुधारने के लिए तेजी से कदम बढ़ा रही हैं।

श्रीनगर टोल प्लाजा से गुजर रहे 95 फीसदी फास्टैग वाले वाहन

टोल प्लाजा प्रबंधक शाहनबाज के मुताबिक अब पलवल के श्रीनगर टोल प्लाजा से गुजरने वाले 95 फीसदी वाहन चालक टोल की अदायगी फास्टैग से कर रहे हैं। मुश्किल से 5 फीसदी ऐसे हैं, जिनके पास अभी फास्टैग की सुविधा नहीं है। ऐसे वाहन चालकों को रोककर जागरूक किया जा रहा है। फरवरी के महीने से फास्टैग अनिवार्य कर दिया गया है। इसके बाद से वाहन चालकों ने तेजी से अपने वाहनों में फास्टैग लगवाए। 100 मीटर लंबा जाम न लगे, इसे लेकर टोल प्लाजा प्रबंधक का कहना है कि इसे लेकर उन्होंने पहले से ही इसकी तैयारी कर रखी है। इसके बाद से उनका प्रयास रहता है कि किसी भी सूरत में 100 मीटर का लंबा जाम न लगे।

शीशा टूट जाता है तो बदलवाएं फास्टैग

अगर किसी वाहन चालक का शीशा टूट जाता है या शीशा बदलवाने की जरूरत पड़ती है तो पहले से लगे फास्टैग को बदलवा लें। 100 रुपये की अतिरिक्त अदायगी पर फास्टैग बदला जा सकता है। इसके बाद पहले वाले फास्टैग का बैलेंस भी नए फास्टैग में आ जाएगा। अक्सर शीशा टूट जाने की स्थिति में फास्टैग सही से काम नहीं करता है। ऐसे में टोल प्लाजा से गुजरते वक्त काफी समय लग जाता है। इसी तरह अगर फास्टैग में बैलेंस कम है और टोल प्लाजा पर पहुंचने के बाद इसका पता लगता है तो दोबारा से रि-चार्ज कराने पर उसे अपड़ेट होने में समय लग जाता है। इससे जहां वाहन चालक का काफी समय बर्बाद हो जाता है, वहीं टोल प्लाजा पर अव्यवस्था बन जाती है।

कोविड का दौर खत्म होने के साथ बढाई जाएगी कर्मचारियों की संख्या

टोल पर व्यवस्था संभालने के लिए 135 कर्मचारियों की तैनाती की गई थी, लेकिन फरवरी के महीने से वाहन चालकों को फास्टैग के बारे में जागरूक करने व लंबी कतार से बचाने के लिए 50 अतिरिक्त कर्मचारियों की तैनाती की गई, ताकि किसी तरह से वाहन चालकों को दिक्कत न हो। लेकिन अब कोविड के चलते इस समय कम कर्मचारियों को ड्युटी पर बुलाया जा रहा है।

पहले दौड़ते थे 24 हजार अब दौड़ रहे 12 हजार वाहन

कोविड के चलते लॉकडाउन से हाईवे पर दौड़ने वाले वाहनों की संख्या आधी रह गई है। कोविड से पहले यह संख्या 24 घंटे में लगभग 24 हजार थी, जो इस समय मुश्किल से 12 से 13 हजार वाहन ही टोल से गुजर रहे हैं। वाहनों की संख्या बढ़ने के साथ ही कर्मचारियों की संख्या भी बढ़ाई जाएगी, ताकि भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के आदेशों का पालन करते हुए 100 मीटर का टोल प्लाजा पर जाम न लगे।

कोट

टोल पर जाम न लगे, इसे लेकर फरवरी से ही उनकी तैयारी चल रही थी। इसके बाद से टोल पर जाम की समस्या नहीं है। यहां व्यवस्था संभालने के लिए अतिरिक्त कर्मचारियों की तैनाती की गई थी। कोविड काल में कम कर्मचारियों को काम पर बुलाया जा रहा है। टोल से गुजरने वाले वाहनों की संख्या भी आधी है। कोविड के बाद कर्मचारियों की संख्या बढ़ाकर टोल को पूरी तरह जाम फ्री किया जाएगा।

- शाहनबाज, टोल प्लाजा प्रबंधक

संबंधित खबरें