DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कमजोर बच्चों के लिए लगेंगी अतिरिक्त कक्षाएं

सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों का परीक्षा परिणाम अव्वल आए, इसके लिए गांव गढ़खेड़ा के स्कूल प्रशासन व स्कूल प्र्रबंधन कमेटी ने संयुक्त प्रयास कर 8वीं से लेकर 10वीं तक के बच्चों की अतिरिक्त कक्षाएं लगानी शुरू कर दी हैं। इस कदम से ग्रामीण खुश हैं। सनद रहे कि गांव गढ़खेड़ा के सरकारी स्कूल के 10वीं कक्षा के 18 में से इस बार 17 बच्चे फेल हो गए। सिर्फ एक बच्चा ही पास हो पाया, जिस पर सकारात्मक कदम उठाते हुए स्कूल प्रबंधन कमेटी ने पहल की और 28 मई को अभिभावक-अध्यापक बैठक का आयोजन किया गया, जिसमें अभिभावकों ने अपने बच्चों पर ध्यान न देने की बात स्वीकार की। बैठक में पता चला कि अधिकांश बच्चों के पास पाठ्यपुस्तकें ही नहीं थीं। स्कूल प्रशासन के बार-बार आग्रह के बावजूद अभिभावक बच्चों को पाठ्यपुस्तकें नहीं दिला पाए। इतना ही नहीं गत वर्षों में स्कूल प्रबंधन कमेटी की बैठक भी नाममात्र व कागजी तौर पर हुई, जिसके कारण बच्चों का पढ़ाई से ध्यान हट गया और वह मौजमस्ती कर अपने घर लौट जाते, जिसके परिणामस्वरूप खराब परीक्षा परिणाम ने सभी को हैरानी में डाल दिया। बैठक में फैसला किया गया कि जून माह की ग्रीष्मकालीन छुट्टियों में बच्चों की छुट्टी करने की बजाए उन्हें अतिरिक्त कक्षाएं देकर पढ़ाया जाएगा। ----------- सतेंद्र कुमार, कार्यवाहक प्रधानाचार्य : 1 जून से कक्षाएं शुरू कर दी हैं। इस दौरान 9वीं व 10वीं कक्षा तक के बच्चों को पढ़ाया जा रहा है। कक्षाओं में बच्चों को सिलेबस कराने के साथ उनकी कमियों पर ध्यान दिया जा रहा है। ------------- हरिदत्त शर्मा, अध्यक्ष,स्कूल प्रबंधन कमेटी: हम स्कूल के परिणाम को बदलने की कोशिश कर रहे हैं। अब हमें अन्य ग्रामीणों का सहयोग भी मिलने लगा है। गांव के पढ़े-लिखे युवक स्कूल में नि:शुल्क सेवाएं देने की पेशकश करने लगे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Additional classes will take for weak children