ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCR फरीदाबादशहर में दुर्धटना संभावित क्षेत्रों में हादसे घटे

शहर में दुर्धटना संभावित क्षेत्रों में हादसे घटे

फरीदाबाद। स्मार्ट सिटी की सड़कों पर घोषित दुर्धटना संभावित क्षेत्रों में इस साल हादसों में कमीं आई है। इन जगहों पर इस साल मध्य जून तक 13 हादसे हुए...

शहर में दुर्धटना संभावित क्षेत्रों में हादसे घटे
default image
हिन्दुस्तान टीम,फरीदाबादFri, 21 Jun 2024 11:15 PM
ऐप पर पढ़ें

फरीदाबाद। स्मार्ट सिटी की सड़कों पर घोषित दुर्धटना संभावित क्षेत्रों में इस साल हादसों में कमीं आई है। इन जगहों पर इस साल मध्य जून तक 13 हादसे हुए हैं। जबकि पिछले साल 20 हादसे हुए थे। अधिकारियों कहना है कि सड़क सुरक्षा संबंधित व्यवस्था मजबूत बनाने के चलते दुर्धटना में कमीं आ रही है।
गौरतलब है कि मार्च में डीसीपी ट्रैफिक उषा ने हाईवे समेत कुंडली-गाजियाबाद-पलवल (केजीपी) एक्सप्रेसवे और अन्य सड़कों का निरीक्षण किया था। स दौरान डीसीपी ने दिल्ली-आगरा हाईवे पर 11 स्थानों और केजीपी एक्सप्रेसवे पर एक स्थान को दुर्धाटना संभावित क्षेत्र के रूप में चिन्हित किया था। माना गया था कि दिल्ली-आगरा हाईवे स्थित एनएचपीसी, सेक्टर-28, बड़खल, बाटा, वाईएमसीए, गुडियर चौक, मंडी कट, बल्लभगढ़, जेसीबी आदि स्थानों पर पुल से नीचे उतरते वक्त वाहन की रफ्तार ज्यादा होती। पुल के पास ही कट बने हैं। इसके चलते अधिक हादसे हो रहे हैं। लिहाजा डीसीपी उषा ने बताया कि सभी दुर्धटना संभावित क्षेत्रों पर व्याप्त कमियों का अध्यन किया गया और उसे दूर करने का प्रयास किया गया। वहां सड़क सुरक्षा संबंधित जरूरी इंतजाम, जैसे रोड मार्किंग , रोड साइन बोर्ड, स्पीड ब्रेकर , सड़क के किनारे ग्रिल लगवाना, बैरिकेड्स आद किए गए। डीसीपी के अनुसार इसके अलावा जनवरी से अबतक गलत लेन में चलने वाले 6580 वाहनों के चालान भी किए गए। लिहाजा दुर्धटना संभावित क्षेत्रों में हादसों में कमीं आ रही है। साल 2023 में जिन दुर्घटना संभावित क्षेत्र में 20 सड़क हादसे हुए थे। इस साल उसमें कमीं आई है। जनवरी से अबतक दुर्घटना संभावित क्षेत्रों में कुल 13 हादसे हुए हैं। इसी प्रकार गलत लेन के चलते पिछले साल कुल नौ सड़क हादसे हुए थे। वहीं इस साल अबतक मात्र तीन हादसे हुए हैं। डीसीपी ट्रैफिक ने बताया कि सड़क दुर्घटनाओं में कमीं लाने के लिए यातायात पुलिस द्वारा हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं। साथ ही वाहन चालकों को जागरूक भी किया जा रहा है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।