अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कर्नाटक: 9 बजे येदियुरप्पा लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथ

BS Yeddyurappa

1 / 2BS Yeddyurappa

बीएस येदियुरप्पा

2 / 2बीएस येदियुरप्पा

PreviousNext

कर्नाटक में विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद सत्ता पर काबिज होने की जंग लगभग खत्म हो चुकी है। भाजपा एक कदम आगे निकल चुकी है।  बता दें, राज्यपाल के भाजपा को सरकार बनाने के न्योता देने के बाद कांग्रेस और जेडीएस ने गुरुवार देर रात सुप्रीम कोर्ट का रुख किया। कांग्रेस और जेडीएस ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल करके शपथ ग्रहण को रुकवाने की मांग की थी। 

इसके बाद देर रात चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने अर्जी स्वीकार करते हुए तीन जजों जस्टिस एके सीकरी, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस बोबडे की बेंच गठित कर सुनवाई का आदेश दिया। सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने अर्जी पर सुनवाई करते हुए येदियुरप्पा की शपथ पर रोक लगाने से इनकार कर दिया। हालांकि, सुप्रीम कोर्ट शुक्रवार सुबह 10.30 फिर इस मामले पर सुनवाई करेगी। साथ ही कोर्ट ने कर्नाटक सरकार और येदियुरप्पा से इस मामले पर जवाब मांगा है। कोर्ट में कांग्रेस ने शपथ ग्रहण टालने की मांग भी की थी। लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस की इस मांग को भी ठुकरा दिया। 

कर्नाटक चुनाव : क्लर्क की नौकरी से कर्नाटक के CM की कुर्सी तक ऐसे पहुंचे येदियुरप्पा

 

Karnataka Governor's letter inviting BJP's BS Yeddyurappa to form government. #KarnatakaElectionResults2018 pic.twitter.com/EafBULC7nr

भाजपा विधायक सुरेश कुमार ने ट्वीट किया था कि कल सुबह 9.30 बजे येदियुरप्पा लेंगे सीएम पद की शपथ। उन्होंने आम लोगों को भी इस मौके पर मौजूद रहने को कहा था। उन्होंने ट्वीट में लिखा था कि सरकार बनाने को लेकर भाजपा अब आश्वस्त है।

टीवी रिपोर्ट्स के मुताबिक खबरें यह भी आईं थी कि भाजपा को सरकार बनाने का निमंत्रण भी मिल चुका है। भाजपा को 21 मई तक बहुमत साबित करने का वक्त मिला है।

यह खरीद-फरोख्त को बढ़ावा देना होगा: कांग्रेस

कांग्रेस ने कहा कि राज्यपाल वजुभाई वाला कांग्रेस-जदएस गठबंधन को सरकार गठन के लिए आमंत्रित करने को संवैधानिक रूप से बाध्य हैं और अगर वह ऐसा नहीं करते हैं तो यह राज्य में खरीद-फरोख्त को बढ़ावा देना होगा। उसने यह भी कहा कि अगर राज्यपाल इस गठबंधन को न्योता नहीं देते हैं तो फिर राष्ट्रपति या न्यायालय के पास जाने का विकल्प खुला हुआ है। 

राज्यपाल द्वारा बीएस येदियुरप्पा को सरकार बनाने का मौका देने से जुड़ी अटकलों के बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं पी चिदंबरम, कपिल सिब्बल, रणदीप सुरजेवाला और विवेक तन्खा ने कहा कि राज्यपाल के फैसले की आधिकारिक घोषणा के बाद पार्टी इन दो विकल्पों को लेकर निर्णय करेगी। उन्होंने मीडिया से बातचीत में यह भी कहा कि अगर राजपाल चाहें तो उनके समक्ष 117 विधयकों की पेशी कराई जा सकती है। सिब्बल ने गोवा के मामले में उच्चतम न्यायालय की एक टिप्पणी का हवाला दिया और कहा कि कर्नाटक के राज्यपाल बहुमत वाले गठबंधन को सरकार बनाने का न्यौता देने के लिए संवैधानिक रूप से बाध्य हैं।

चिदंबरम ने कहा, 'कांग्रेस और जदएस ने कर्नाटक में चुनाव बाद गठबंधन किया है। लेकिन राज्यपाल ने कुमारस्वामी को सरकार बनाने का अब तक न्यौता नहीं दिया। यह पता चल रहा है कि राज्यपाल ने शायद येदियुरप्पा को बुलाया है, लेकिन इसकी पुष्टि नहीं है। इसलिए हम अब तक यह मानकर चल रहे हैं कि राज्यपाल ने अब तक कोई फैसला नहीं किया।'

हमें संविधान की मर्यादा न सिखाए कांग्रेसः रविशंकर प्रसाद

राज्यपाल का भाजपा को सरकार बनाने के लिए भेजा गया पत्र सामने आते ही कांग्रेस ने भाजपा पर संविधान की मर्यादा भंग करने का आरोप लगाया है। जवाब में भाजपा नेता रविशंकर प्रसाद ने कहा है कि कांग्रेस हमें संविधान की मर्यादा न सिखाए। संविधान की धज्जिया उड़ाना कांग्रेस का इतिहास रहा है। कांग्रेस लोकतंत्र की दुहाई न दे। बीजेपी की सरकार को कांग्रेस ने बर्खास्त किया था। कांग्रेस ने आपातकाल लगाकर कैसे संविधान की रक्षा की थी? कांग्रेस ने सरकार बर्खास्त कराकर राष्ट्रपति शासन लगाए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Yeddyurappa will take oath of CM post tomorrow 15 days time to prove majority