DA Image
21 अक्तूबर, 2020|11:36|IST

अगली स्टोरी

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने आरोग्य सेतु ऐप की तारीफ की, कहा- कोरोना क्लस्टर पहचानने में मिली मदद

aarogya setu app

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि कोरोना वायरस संक्रमण के लिए बने आरोग्य सेतु कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग ऐप ने दुनिया के दूसरे सबसे प्रभावित देश में क्लस्टर्स की पहचान और उन इलाकों में टेस्टिंग बढ़ाने में मदद की है। WHO के डायरेक्टर जनरल टेड्रोस अधानोम घेब्रेयेसस ने मंगलवार को एक मीडिया ब्रीफिंग में कहा कि सरकार इसकी मदद से यूजर्स को कोविड-19 इन्फेक्शन के बारे में जानकारी दे रही है।

घेब्रेयेसस ने सोमवार को कहा, ''भारत में 15 करोड़ यूजर्स ने आरोग्य सेतु को डाउनलोड किया है और इसने शहरों में जनस्वास्थ्य विभागों को यह पहचानने में मदद की है कि कहां क्लस्टर बन रहे हैं और उसी के मुताबिक वे टेस्टिंग में इजाफा कर सकते हैं।'' टेड्रोस ने उन डिजिटल टेक्नॉलजीज के बारे में बात करते हुए ये बातें कहीं, जिन्होंने इन पब्लिक हेल्थ टूल्स को अधिक प्रभावी बना दिया है।

ग्लोबल हेल्थ बॉडी के डायरेक्टर जनरल ने जर्मनी के कोरोना-वार्न ऐप का भी जिक्र किया, जिसके लिए उन्होंने कहा कि ऐप के जरिए पहले 100 दिनों में 12 लाख टेस्ट रिजल्ट को लैब्स से यूजर्स तक पहुंचाया। डेनमार्क में 2700 लोगों ने नोटिफिकेशन मिलने के बाद टेस्ट कराया। ब्रिटेन ने NHS कोविड-19 ऐप का नया वर्जन जारी किया है, जिसके पहले सप्ताह के भीतर ही 1 करोड़ डाउनलोड्स हुए। 

घेब्रेयेसस ने कहा, ''विश्व स्वास्थ्य संगठन यूरोपीय केंद्रों के लिए बीमारी रोकथाम और देशों को डिजिटल कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग ऐप के प्रभावीपन को लेकर काम कर रहा है। यह उन उपायों में शामिल एक उदाहरण है, जो देश कोविड-19 को नियंत्रित करने के लिए अपना रहे हैं।'' 

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अप्रैल में कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिए लागू लॉकडाउन के पहले सप्ताह के दौरान आरोग्य सेतु ऐप को लॉन्च किया था। आरोग्य सेतु ऐप को मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इन्फ्रॉर्मेशन टेक्नॉलजी मिनिस्ट्री के तहत आने वाले नेशनल इन्फॉरमेटिक्स सेंटर (NIC) ने विकसित किया है। 
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:World Health Organization praise Aarogya Setu app for controlling covid 19