ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशबिल्ली को बचाने में 8वीं मंजिल से गिरी महिला, दर्दनाक मौत; पर कैट एकदम सुरक्षित

बिल्ली को बचाने में 8वीं मंजिल से गिरी महिला, दर्दनाक मौत; पर कैट एकदम सुरक्षित

पालतू बिल्ली को बचाने के चक्कर में कोलकाता की एक महिला की 8वीं मंजिल से गिरकर मौत हो गई। बिल्ली इमारत के टॉप फ्लोर पर लगे शामियाने में फंस गई थी और महिला उसे निकालने की कोशिश में जुटी थी।

बिल्ली को बचाने में 8वीं मंजिल से गिरी महिला, दर्दनाक मौत; पर कैट एकदम सुरक्षित
Surya Prakashहिन्दुस्तान टाइम्स,कोलकाताTue, 28 Nov 2023 09:34 AM
ऐप पर पढ़ें

पालतू बिल्ली को बचाने के चक्कर में कोलकाता की एक महिला की 8वीं मंजिल से गिरकर मौत हो गई। बिल्ली इमारत के टॉप फ्लोर पर लगे शामियाने में फंस गई थी और महिला उसे निकालने की कोशिश कर रही थी। इसी दौरान वह 8वीं मंजिल से गिरी तो नीचे आ पहुंची। इस हादसे में उसकी मौत हो गई। परिवार एक महीने पहले ही इस फ्लैट में किराये पर रहने आया था। कोलकाता के टॉलीगंज इलाके में हुई इस दर्दनाक घटना से हर कोई हैरान है। अंजना दास का खून से सना शव दो इमारतों के बीच में पड़ा पाया गया।

यह सुबह करीब 8 बजे की घटना है। लेव एवेन्यू रोड पर स्थित सोसायटी के गार्डों और अन्य लोगों ने धड़ाम से कोई चीज गिरने की आवाज सुनी। इस पर लोग दौड़े तो अंजना दास को जमीन पर गिरा पाया। उन्हें तत्काल अस्पताल पहुंचाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। वहीं जिस बिल्ली को बचाने के चक्कर में अंजना नीचे आ गिरी थी, उसे इमारत में मौजूद लोगों ने सुरक्षित निकाल लिया। आसपास के लोगों ने बताया कि अंजना अपनी बिल्ली की रविवार शाम से ही तलाश कर रही थी। फिर उन्हें सोमवार को पता चला कि बिल्ली तो तिरपाल में फंसी हुई है।

इस पर वह उसे निकालने की कोशिश करने लगीं और इसी दौरान वह नीचे आ गिरीं। अपार्टमेंट में ही रहने वाले एक शख्स ने बताया कि उसने देखा था कि अंजना ने चप्पल उतारी और वह तिरपाल तक पहुंचने की कोशिश करने लगीं। इसी दौरान उनका पैर फिसल गया और वह जमीन पर धड़ाम से जा गिरीं। बिल्ली को वह करीब डेढ़ महीने पहले घर लेकर आई थीं, जिनसे हाल ही में तीन बच्चों को भी जन्म दिया था। पड़ोसी ने बताया कि अंजना यहां अपनी बुजुर्ग मां के साथ रहती थीं। वह एक महीने यहां किराये पर आई थीं। 

पड़ोसियों ने बताया कि परिवार का अपना पैतृक घर सरत बोस रोड पर है। यहां पुनर्निर्माण चल रहा है। इसलिए प्रमोटर ने उनके लिए यहां रहने की व्यवस्था कर दी थी। यहां वह 11 महीने रहने वाले थे, लेकिन इस बीच यह हादसा हो गया। पुलिस ने भी कहा कि यह मामला पूरी तरह से हादसा ही लग रहा है और इसमें कोई अन्य साजिश या इरादतन हत्या जैसा मामला नहीं लग रहा है। अंजना दास के पति साथ नहीं रहते हैं। उन्हें भी घटना की जानकारी दी गई है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें