DA Image
21 जनवरी, 2020|12:11|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विधानसभा चुनाव 2018: राजस्थान के मतदाता क्या फिर बदलाव को मत देंगे!

mp election 2018 live updates voting today

राजस्थान में 1993 के बाद से हर पांच साल पर सरकार बदलती रही है। सत्ता की अदला-बदली भाजपा और कांग्रेस के बीच होती रही है। चुनाव पूर्व सर्वेक्षण भी इसी की ओर संकेत कर रहे हैं। लेकिन लोकतंत्र में मतदाता शीर्ष पर होते हैं और अब देखना है कि क्या वे फिर बदलाव के पक्ष में मत देंगे या फिर तीन दशक से चल रहा सत्ता परिवर्तन का दौर रुकता है।  

कब किसका शासन 

- 1993 : भाजपा, मुख्यमंत्री भैरो सिंह शोखावत 

- 1998 : कांग्रेस , मुख्यमंत्री अशोक सिंह गहलोत

- 2003 : भाजपा, मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे 

- 2008 : कांग्रेस, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत 

- 2013 : भाजपा, मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे 

विकास समान फिर भी गई सरकार 

- 1998 से 2018 के बीच भाजपा और कांग्रेस की दो-दो सरकारें सत्ता में रही 

- 4 से 5 फीसदी औसत सकल घरेलू उत्पाद चारों सरकारों के दौरान रहा 

- 63 फीसदी बढ़ी किसानों की आय 2003 -13 के बीच, राष्ट्रीय औसत से दोगुनी 

भाजपा को इन कामों पर जीत का भरोसा 

- 90,750 करोड़ रुपये का निवेश आया उनके कार्यकाल में 

- 25 फीसदी अधिक है पूर्ववर्ती गहलोत सरकार के मुकाबले 

- 90 फीसदी घरों तक पहुंच चुकी बिजली, राष्ट्रीय औसत 88% 

कांग्रेस इन मुद्दों पर घेर रही 

- कृषि  : मूंग, चना और अदरक के बंपर उत्पादन के कारण गत महीनों में इसकी कीमत में गिरावट आई है, जिससे सही दाम नहीं मिल पा रहा है। गेंहू की खरीद भी उत्पादन के मुकाबले कम। 

- रोजगार : गत एक दशक में फैक्टरी रोजगार में वृद्धि हुई है, लेकिन देश में हिस्सेदारी मात्र साढ़े तीन फीसदी है। वहीं 2015-16 में निविदा कर्मियों की हिस्सेदारी बढ़कर 39.6% के स्तर पर पहुंच गई है। 

पहले तेलंगाना में KCR और फिर 2019 में BJP को हराएंगे: राहुल गांधी

दिग्विजय बोले, ऐसे केंद्रों पर EVM हो रही खराब, जो कांग्रेस के पक्ष की

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Will voters of Rajasthan again vote for change