Wife questions husband manhood and Know what happen then - पत्नी ने उठाया पति के पौरुष पर सवाल और फिर... DA Image
20 नबम्बर, 2019|5:52|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पत्नी ने उठाया पति के पौरुष पर सवाल और फिर...

file photo

उत्तर प्रदेश के मेरठ के एक निजी यूनिवर्सिटी के असिस्टेंट प्रोफेसर के दाम्पत्य जीवन का भविष्य मेडिकल रिपोर्ट से तय होगा। पत्नी ने उसके ऊपर आरोप लगाया है कि वह वैवाहिक रिश्ता निभाने में सक्षम नहीं है। अब असिस्टेंट प्रोफेसर अपना मेडिकल परीक्षण कराएगा।

मेडिकल रिपोर्ट में सबकुछ ठीक मिलने पर ही पत्नी उसके साथ जाएगी। इसी शर्त पर रविवार को नारी उत्थान केंद्र में पति-पत्नी के बीच समझौता हुआ। कांठ थाना क्षेत्र की रहने वाली एमए पास युवती का निकाह एक साल पहले बिजनौर जिले के युवक से हुआ है। युवक मेरठ के मवाना रोड स्थित निजी तकनीकी विश्वविद्यालय का असिस्टेंट प्रोफेसर है। शादी के बाद कुछ समय तक युवती और युवक के बीच सबकुछ ठीकठाक रहा। बाद में दोनों में अनबन होने लगी। इस बीच पति को छोड़कर युवती मायके में आकर रहने लगी। उसने मुरादाबाद एसएसपी को प्रार्थनापत्र देकर पति पर प्रताड़ना का आरोप लगाया। एसएसपी ने मामला नारी उत्थान केंद्र में भेज दिया।

रविवार को नारी उत्थान केंद्र में काउंसलर एमपी सिंह ने दोनों पक्षों को बुलाकर काउंसिलिंग की। नारी उत्थान केंद्र प्रभारी संध्या रावत ने बताया कि काउंसिलिंग के दौरान युवती ने पति के पौरुष पर सवाल उठाया जबकि असिस्टेंट प्रोफेसर ने कहा कि वह प्रतिदिन बिजनौर से मेरठ आता-जाता है। इसलिए वह समय नहीं दे पाता है। दोनों को समझाबुझा कर समझौता कराने का प्रयास किया गया, लेकिन सफलता नहीं मिली।

काउंसलर एमपी सिंह ने बताया कि असिस्टेंट प्रोफेसर अपना मेडिकल परीक्षण कराएगा। युवती ने शर्त रखी है कि रिपोर्ट में सबकुछ ठीक होने पर ही वह उसके साथ जाएगी। साथ ही यह भी शर्त रखी है कि असिस्टेंट प्रोफेसर उसे अपने साथ मेरठ में रखेगा। समझौते के बाद अब 24 अक्तूबर को असिस्टेंट प्रोफेसर जांच कराने के बाद अपनी पत्नी को मेडिकल रिपोर्ट दिखाएगा। उसके बाद ही पत्नी उसके साथ जाएगी। एक माह बाद दोनों को दोबारा काउंसिलिंग के लिए बुलाया गया है।
 
मनमुटाव भुलाकर एक हुए नौ परिवार 
नारी उत्थान केंद्र में रविवार महिला सहायता प्रकोष्ठ प्रभारी संध्या रावत की अध्यक्षता में परिवार परामर्श केंद्र की बैठक हुई। इस दौरान 22 परिवारों को काउंसिलिंग के लिए बुलाया गया। कांउसलर एमपी सिंह, समाजसेवी रेहाना रहमान एवं रीता सिंह ने परिवारों की काउंसिलिंग की। काउंसिलिंग के बाद नौ परिवारों ने मनमुटाव भुलाकर एक साथ रहने का फैसला किया। जबकि एक परिवार ने अलगाव कर लिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Wife questions husband manhood and Know what happen then