DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

क्यों हफ्ते के आखिरी दिनों में डरने लग जाती थी देवरिया बाल गृह में रहनेवाली लड़कियां

The Deoria shelter home from where twenty-four girls were rescued after allegation of sexual exploit

देवरिया बाल गृह में रहनेवाली लड़कियों ने जब वहां की आपबीती सुनाई तो वो ना सिर्फ खौफनाक थी बल्कि इसमें कई ऐसे सनसनीखेज खुलासे सामने आए हैं। इससे पता चलता है कि कैसे देवरिया बाल गृह का संचालन करनेवाले डर दिखाकर वेश्यावृति का धंधा चला रहे थे। वहां रहनेवाली लड़कियों ने बताया कि गिरिजा त्रिपाठी अपने पति और दो बेटियों के साथ इस देवरिया बाल गृह को चलाते थे और वे डर दिखाकर जबरदस्ती उन नाबालिग लड़कियों से देह व्यापार का धंधा करवाते थे।
 
पुलिस और काउंसलर्स की पूछताछ में 15 वर्षीय लड़की ने सच बयां करते हुए कहा कि वह हफ्ते के आखिरी दिनों में काफी डर और सहम उठती थी, क्योंकि उसे जबरदस्ती किसी अज्ञात शख्स के साथ भेज दिया जाता था, जो उसका यौन शोषण करता था।

मां विन्ध्यावासिनी महिला एवं बालिक संरक्षण गृह में रहनेवाली उस पीड़ित लड़की ने गिरिजा त्रिपाठी पर उसके उत्पीड़न करने का आरोप लगते हुए कहा कि जब वो उसका कहा करने से इनकार करती थी तो उस पर कई तरह के जुल्म ढाए जाते थे। नाबालिग लड़की ने काउंसलर्स को बताया कि कैसे उसे देवरिया रेलवे स्टेशन के पास बने इस बाल गृह की पहली मंजिल से हर हफ्ते वहां पर आनेवाले अलग-अलग लोगों के साथ उनकी आलीशान गाड़ियों में उसे भेजा जाता था।

पुलिस अधिकारी ने बताया- “लड़कियां यह नहीं जानती थी कि उसे किसके साथ भेजा गया लेकिन लड़कियों ने यह बताया कि उनकी गाड़ियों और प्रोटोकॉल को देखकर ऐसा लगता था कि वह काफी सीनियर अधिकार थे।” उन्होंने बताया- “लड़कियों ने यह आरोप लगाया कि बड़ी मैडम (गिरिजा त्रिपाठी) उसे अलग-अलग लोगों के साथ भेजती थी, जो उसका यौन शोषण करते थे। उनमें से कुछ हफ्ते के आखिर में नियमित तौर पर उसे फोन करते थे।”

लड़की ने काउंसलर्स से बताया कि उसे वे शख्स रातभर अपने साथ रखता था और सुबह होने से पहले ही उसे बाल आश्रम भेज देता था। उसने बताया कि जब भी कोई उसे लेने के लिए आता था तो गिरिजा उसे आश्रम के अलग दरवाजे से उसे बाहर ले जाती थी।

पुलिस अधिकारी ने बताया- “शुरूआत में लड़कियों ने ऐसा करने का विरोध किया। लेकिन जब उसका शारीरिक उत्पीड़न किया गया तो उसे ऐसा लगा कि गिरिजा का आदेश मानने के अलावा उसका कोई और चारा नहीं है, क्योंकि उन लड़कियों को ऐसा लगा कि गिरिजा का बड़ा रसूख है। लेकिन, जब वे गिरिजा का आदेश मानती थी तो उन लड़कियों के साथ वह अच्छा सलूक करती थी।”

ये भी पढ़ें: गिरिजा त्रिपाठी की बेटी कंचनलता को पुलिस ने भेजा जेल

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Why girls at Deoria house of horrors dreaded the weekends