ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशNDA के खिलाफ कौन होगा राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार? विपक्ष ने भी शुरू कर दिया मंथन

NDA के खिलाफ कौन होगा राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार? विपक्ष ने भी शुरू कर दिया मंथन

तेलंगाना राष्ट्र समिति के अध्यक्ष और मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने विपक्ष के उम्मीदवार के लिए समर्थन जुटाने के लिए बीजू जनता दल (बीजेडी) को साथ लाने के लिए पार्टी नेताओं को प्रतिनियुक्त किया है।

NDA के खिलाफ कौन होगा राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार? विपक्ष ने भी शुरू कर दिया मंथन
Himanshu Jhaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्ली।Thu, 21 Apr 2022 07:59 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

जुलाई में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव के लिए विपक्षी दलों ने भाजपा के नेतृत्व वाले राष्ट्रवादी जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार को चुनौती देने के लिए एक आम उम्मीदवार को मैदान में उतारने पर चर्चा शुरू कर दी है। सांप्रदायिक हिंसा की घटनाओं के खिलाफ विपक्ष की आम सहमति से इसकी शुरुआत हो चुकी है। पार्टियों के मई की शुरुआत में राष्ट्रपति चुनाव और केंद्र द्वारा केंद्रीय एजेंसियों के कथित दुरुपयोग पर एक बैठक आयोजित करने की उम्मीद है।

तेलंगाना राष्ट्र समिति के अध्यक्ष और मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने विपक्ष के उम्मीदवार के लिए समर्थन जुटाने के लिए बीजू जनता दल (बीजेडी) को साथ लाने के लिए पार्टी नेताओं को प्रतिनियुक्त किया है। आपको बता दें कि बीजेडी मोदी सरकार को मुद्दों पर आधारित समर्थन देती रही है। बीजेडी ने 2019 में जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन विधेयक और संसद में तीन तलाक सहित महत्वपूर्ण कानूनों के पक्ष में मतदान किया था। हालांकि, विपक्ष को लगता है कि वह बीजेडी अध्यक्ष नवीन पटनायक को मना सकता है। इकोनॉमिक्स टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, विपक्ष के एक वरिष्ठ नेता ने बताया, 'टीआरएस प्रमुख ने बातचीत शुरू कर दी है। यह अभी शुरुआत है और हमें एक-दूसरे से बात करते रहना होगा।'

वहीं, वाम दलों ने राष्ट्रपति पद के लिए एक साझा उम्मीदवार पर भी बातचीत शुरू कर दी है। सीपीआई नेता डी राजा ने राष्ट्रपति चुनाव पर चर्चा के लिए मंगलवार को राजद के तेजस्वी यादव से मुलाकात की। इकोनॉमिक्स टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, राजा ने कहा, 'वाम दल हमेशा एनडीए के उम्मीदवार के खिलाफ विपक्षी उम्मीदवार को खड़ा करने के पक्ष में रहे हैं। इसबार अलग नहीं होगा। हमने बातचीत शुरू कर दी है और हमारी कोशिश आम सहमति बनाने की होगी।' 

2017 के राष्ट्रपति चुनावों में, विपक्षी दल एनडीए के उम्मीदवार राम नाथ कोविंद के खिलाफ पूर्व लोकसभा अध्यक्ष और कांग्रेस की दिग्गज नेता मीरा कुमार का समर्थन करने के लिए एक साथ आए थे। हालांकि, कोविंद कुल 65.65% वोटों से चुनाव जीते। लगातार मिल रही चुनावी हारों के कारण कांग्रेस का कद तेजी से कम होने के साथ विपक्षी खेमा राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार पर आम सहमति बनाने के लिए क्षेत्रीय दलों पर भरोसा कर रहा है।

2022 के राष्ट्रपति चुनाव विपक्षी एकता के लिए महत्वपूर्ण हैं। विपक्षी दल बीजेपी को कड़ी टक्कर देने का मौका तलाश रहे हैं। 2017 के राष्ट्रपति चुनावों से अब तक भाजपा ने शिरोमणि अकाली दल, शिवसेना और तेलुगु देशम पार्टी (टीडीपी) सहित सहयोगियों को खो दिया है। यह एक संख्या का खेल होगा जो विपक्षी एकता की परीक्षा लेगा।

epaper