DA Image
22 अक्तूबर, 2020|12:35|IST

अगली स्टोरी

ट्रेन में सामान चोरी होने पर कौन करेगा कार्रवाई? रेल मंत्री पीयूष गोयल ने दिया ये जवाब

Piyush Goyal

ट्रेन में चोरी के बढ़ते मामलों का मुद्दा शुक्रवार को राज्यसभा में भी उठाया गया। दो महिला सांसदों झरना दास और सरोजिनी हेम्ब्रम ने संसद में बताया कि उनका सामान ट्रेन के एसी फर्स्ट क्लास कोच से चोरी हो गया। उन्होंने कहा कि जब देश के सांसद ही चोरों से अपने सामान को नहीं बचा पा रहे हैं तो तो आम रेल यात्री के साथ क्या होता होगा। 

प्रश्नकाल के दौरान माकपा की झरना दास ने रेल मंत्री पीयूष गोयल से पूरक प्रश्न पूछते हुए कहा कि वह राजधानी ट्रेन के प्रथम श्रेणी कोच में दिल्ली से कोलकाता जा रही थीं। रास्ते में उनका सामान चोरी कर लिया गया। उन्होंने कोलकाता जाकर इसकी रिपोर्ट लिखवायी। इसके बाद ही वह त्रिपुरा गयी। उन्होंने कहा कि रिपोर्ट दर्ज कराने के बावजूद अब तक सामान का कोई सुराग नहीं लगा। 

इसके बाद बीजेडी की सरोजिनी हेम्ब्रम ने भी पूरक सवाल पूछते हुए कहा कि उनका भी ट्रेन यात्रा के दौरान प्रथम श्रेणी की बोगी से सामान चोरी हो गया। उन्होंने कहा कि जब सांसदों का सामान ही ट्रेन में सुरक्षित न हो तो आम रेल यात्रियों की क्या स्थिति होगी इसकी कल्पना की जा सकती है। उन्होंने सरकार से जानना चाहा कि ट्रेनों में यात्रियों और उनके सामान की सुरक्षा के लिए क्या प्रबंध किये जा रहे हैं। 

पीयूष गोयल का जवाब- चोरी के मामलों में राज्य पुलिस करती है कार्रवाई
इस पर रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि सुरक्षा राज्य का विषय है। रेलवे पुलिस की जिम्मेदारी केवल रेलवे संपत्ति और यात्रियों की सुरक्षा करना है। चोरी आदि के मामलों में रेलवे पुलिस राज्य पुलिस की मदद करती है। राज्य पुलिस ही चोरी आदि के मामलों में प्रकरण दर्ज कर आगे की कार्रवाई करती है। 

पीयूष गोयल ने कहा कि चोरी जिस राज्य में हुई, उससे पता चलता है कि वहां कानून व्यवस्था की क्या स्थिति है। उन्होंने कहा कि रेलवे सारी ट्रेनों और प्लेटफार्मों पर सीसीटीवी लगाने की योजना बना रही है। इससे यात्रियों एवं रेलवे की बेहतर सुरक्षा में मदद मिलेगी। 

ऐसी घटनाएं रोकने के हर संभव किए जा रहे हैं
इसके जवाब में गोयल ने कहा कि रेलवे सुरक्षा बल और राजकीय रेल सुरक्षा बल आपस में सामंजस्य कायम कर रेलगाड़ियों में अपराधों को रोकने के हरसंभव प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने स्वीकार किया कि रेलगाड़ियों में अपराधों को अंजाम देने वाले अराजक तत्व यात्रा का वैध टिकट लेकर सवार होते हैं। ऐसे में सुरक्षा कर्मियों के लिये इन्हें सामान्य अपराधियों से अलग कर इनकी पहचान कर पाना मुमकिन नहीं होता है। 

गोयल ने इस पर प्रभावी नियंत्रण के लिये  सभी सदस्यों से रेल यात्रा के दौरान किसी भी तरह की वारदात या साफ सफाई सहित अन्य असुविधाओं की शिकायतें विभिन्न माध्यमों से करने की अपील की जिससे इन पर प्रभावी कार्रवाई की जा सके। गोयल ने कहा कि इसके लिये सोशल मीडिया, मोबाइल एप और पत्राचार को माध्यम बनाया जा सकता है। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Who will act on the stolen goods in the train- The answer given by Railway Minister Piyush Goyal