ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशकौन हैं भारतीय पायलट गोपीचंद? आज अंतरिक्ष की यात्रा कर रचेंगे इतिहास, 40 साल बाद होगा ऐसा

कौन हैं भारतीय पायलट गोपीचंद? आज अंतरिक्ष की यात्रा कर रचेंगे इतिहास, 40 साल बाद होगा ऐसा

Who is Gopichand Thotakura: भारतीय मूल के पायलट गोपीचंद थोटाकुरा 19 मई को इतिहास रचने वाले हैं। वह ब्लू ओरिजिन की कमर्शियल अंतरिक्ष यात्रा का हिस्सा हैं, जो आज शाम को उड़ान भरेगी।

कौन हैं भारतीय पायलट गोपीचंद? आज अंतरिक्ष की यात्रा कर रचेंगे इतिहास, 40 साल बाद होगा ऐसा
Gaurav Kalaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSun, 19 May 2024 02:30 PM
ऐप पर पढ़ें

Who is Gopichand Thotakura: भारतीय मूल के पायलट गोपीचंद थोटाकुरा 19 मई को इतिहास रचने वाले हैं। वह जेफ बेजोस के स्वामित्व वाली कंपनी ब्लू ओरिजिन की कमर्शियल अंतरिक्ष यात्रा का हिस्सा हैं, जो आज शाम को उड़ान भरेगी। ब्रह्मांड की इस यात्रा में पायलट के तौर पर गोपीचंद को चुना है। वह अंतरिक्ष की उड़ान भरते ही ऐसा करने वाले दूसरे भारतीय होंगे। इससे पहले 1984 में राकेश शर्मा ने यह कारनामा किया था। 

संयुक्त राज्य अमेरिका में रहने वाले गोपीचंद को ब्लू ओरिजिन के न्यू शेपर्ड-25 (एनएस-25) मिशन के लिए चालक दल में चुना गया है। उनके अलावा चालक दल में दुनिया भर के पांच अन्य अंतरिक्ष यात्री भी हैं। यह मिशन न्यू शेपर्ड कार्यक्रम के लिए सातवीं मानव उड़ान और इतिहास में 25वां मिशन है।

कब उड़ान भरेगा विमान
भारतीय समयानुसार मिशन की उड़ान का समय शाम 7 बजे रखा गया है। लॉन्च को ब्लू ओरिजिन के सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर लाइव स्ट्रीम किया जाएगा, जो लॉन्चिंग से 40 मिनट पहले शुरू किया जाएगा। उड़ान भरने की जगह यूएस में वेस्ट टेक्सास शहर में रखी गई है।

गोपीचंद की यात्रा बतौर भारतीय बहुत मायने रखती है। क्योंकि अप्रैल 1984 में रूसी सोयुज टी-11 अंतरिक्ष यान पर सवार राकेश शर्मा की ऐतिहासिक यात्रा के बाद अंतरिक्ष में जाने वाले वह दूसरे भारतीय बन जाएंगे। गोपीचंद 31 व्यक्तियों की उस स्पेशल टीम का हिस्सा हैं, जिसे कर्मन रेखा को पार करना है। यह रेखा पृथ्वी के वायुमंडल और बाह्य अंतरिक्ष के बीच की सीमा है।

गोपीचंद थोटाकुरा कौन हैं?
आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा में जन्मे गोपीचंद आज 30 साल के हैं। वह एक उद्यमी और कुशल पायलट हैं। ब्लू ओरिजिन वेबसाइट के मुताबिक, गोपीचंद एक पायलट और एविएटर है। जिन्होंने सड़क पर गाड़ी चलाने से पहले ही हवाई उड़ान भरना शुरू कर लिया था। वह कमर्शियली जेट उड़ाने के अलावा, बुश, एरोबेटिक और सीप्लेन के साथ-साथ ग्लाइडर भी उड़ा चुके हैं। वह एक अंतरराष्ट्रीय मेडिकल जेट पायलट के रूप में भी काम कर चुके हैं। 

अपनी विमानन उपलब्धियों के अलावा, एम्ब्री-रिडल एरोनॉटिकल यूनिवर्सिटी से स्नातक पूरा कर चुके गोपीचंद यात्रा के शौकीन हैं। उन्होंने माउंट किलिमंजारो पर सफलतापूर्वक चढ़ाई की है।