DA Image
हिंदी न्यूज़ › देश › कन्हैया के रवैये से परेशान CPI, बने रहने को मांगा सचिव पद और टिकट बांटने का अधिकार
देश

कन्हैया के रवैये से परेशान CPI, बने रहने को मांगा सचिव पद और टिकट बांटने का अधिकार

सौभद्र चटर्जी, हिन्दुस्तान टाइम्स,नई दिल्ली पटनाPublished By: Surya Prakash
Mon, 27 Sep 2021 04:43 PM
कन्हैया के रवैये से परेशान CPI, बने रहने को मांगा सचिव पद और टिकट बांटने का अधिकार

कन्हैया कुमार के कांग्रेस में जाने की अटकलें लग रही हैं। कहा जा रहा है कि वह मंगलवार को कांग्रेस जॉइन कर सकते हैं। लेकिन सीपीआई को अब भी इस बारे में कोई खबर नहीं है। पार्टी के नेता से लेकर कार्यकर्ता तक इन कयासों की पुष्टि करने में ही व्यस्त हैं, लेकिन कन्हैया कुमार की ओर से चुप्पी ने अटकलों को और हवा दे दी है। बीते मंगलवार को जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार का दिल्ली में पार्टी के नेता इंतजार करते रहे कि वे आएंगे और बयान जारी करेंगे। पार्टी की ओर से उन्हें इस बारे में आदेश दिया गया था कि वे इस बारे में चुप्पी तोड़ें और लोगों को सच्चाई बताएं। लेकिन वे पार्टी के दफ्तर में ही नहीं पहुंचे। 

कन्हैया कुमार और सीपीआई के बीच उन खबरों के बाद से ही रिश्ते तनावपूर्ण हैं, जिनमें कहा जा रहा है कि वे जल्दी ही कांग्रेस जॉइन कर सकते हैं। कन्हैया कुमार के अलावा गुजरात के दलित नेता जिग्नेश मेवानी के भी मंगलवार को कांग्रेस जॉइन करने की बात कही जा रही है। सीपीआई के नेताओं ने हिन्दुस्तान टाइम्स से बताया कि बीते सोमवार को पार्टी के जनरल सेक्रेटरी डी. राजा ने उनसे कहा था कि वे प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अफवाहों को खारिज करें। अगले दिन दिल्ली में पार्टी के मुख्यालय में नेता उनका इंतजार करते रहे, लेकिन वह नहीं पहुंचे। यही नहीं एक सीनियर नेता ने बताया कि पार्टी नेताओं की ओर से कन्हैया कुमार को मेसेज और फोन भी किए गए, जिसका उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया।

भगत सिंह की जयंती पर जॉइन कर सकते हैं कांग्रेस

कन्हैया कुमार के कांग्रेस में जाने की अटकलें काफी वक्त से लग रही हैं, लेकिन उन्होंने इसे लेकर अब तक कोई टिप्पणी नहीं की है। बीते शनिवार को गुजरात के विधायक जिग्नेश मेवानी ने इस बात की पुष्टि की थी कि वह और कन्हैया कुमार 28 सितंबर को कांग्रेस जॉइन करने वाले हैं। इसी दिन शहीद-ए-आजम भगत सिंह की जयंती भी है। कन्हैया कुमार के बारे में पूछे जाने पर डी. राजा ने कहा, 'देखते हैं।' कहा जा रहा है कि कन्हैया कुमार अपनी मौजूदा पार्टी में खुश नहीं हैं। दरअसल पार्टी में वह बड़ा रोल प्ले करना चाहते हैं, लेकिन उन्हें बड़ी भूमिका मिली नहीं है। 

पार्टी का स्टेट चीफ और टिकट बांटने की मांगी ताकत

कहा जा रहा है कि रविवार को सीपीआई नेताओं के एक ग्रुप ने कन्हैया कुमार से बात की थी। इन नेताओं ने कन्हैया कुमार को पार्टी में रुकने की बात कही। पार्टी के एक नेता ने नाम उजागर न करने की शर्त पर कहा, 'इस बातचीत के दौरान कन्हैया कुमार ने कहा कि मुझे पार्टी का स्टेट चीफ बनाया जाना चाहिए। इसके अलावा शीर्ष चुनावी समिति का चेयरमैन बनाया जाना चाहिए, जो चुनावों में प्रत्याशियों का सलेक्शन करती है।' एक अन्य नेता ने कहा, 'किसी भी पार्टी में कोई इस तरह की मांग नहीं कर सकता है। यह वह पार्टी है, जो अपने लोगों के बारे में खुद फैसला लेती है और जिम्मेदारी देती है। यदि उनकी कोई महत्वाकांक्षा है तो टॉप अथॉरिटीज को बताना चाहिए।'

2 अक्टूबर को है सीपीआई की नेशनल काउंसिल की मीटिंग

फिलहाल सभी की नजरें सीपीआई की नेशनल काउंसिल की मीटिंग पर है। इस मीटिंग में अन्य तमाम मुद्दों के साथ ही कन्हैया कुमार को लेकर भी बात भी हो सकती है। बता दें कि कन्हैया कुमार 2019 के लोकसभा चुनाव में बेगूसराय सीट से गिरिराज सिंह के खिलाफ चुनावी समर में उतरे थे, जहां उन्हें 4 लाख से ज्यादा वोटों से हार का सामना करना पड़ा था।

संबंधित खबरें